Uttarakhand News: आईटीबीपी को मिले 27 नए ऑफिसर्स,पासिंग आउट परेड के बाद मुख्यधारा में हुए शामिल

ख़बर शेयर करें -

देहरादून स्थित भारत-तिब्बत सीमा पुलिस अकादमी में एक वर्ष के कठिन प्रशिक्षण के उपरान्त 27 युवा अधिकारी मुख्य धारा में शामिल हुए।

🔹पुलिस संबंधी विषयों का गहन प्रशिक्षण दिया गया

प्रशिक्षण के बाद आयोजित भव्य दीक्षांत और शपथ ग्रहण समारोह में इन युवा अधिकारियों ने संविधान एवं बल के प्रति निष्ठा, समर्पण की शपथ ली। प्रशिक्षण के दौरान युद्ध कौशल, शस्त्र चालन, शारीरिक प्रशिक्षण, आसूचना मानचित्र अध्ययन, सैन्य प्रशासन, कानून व मानव अधिकार जैसे सैन्य व पुलिस संबंधी विषयों का गहन प्रशिक्षण दिया गया।

🔹बैंड डिस्पले के साथ हुआ समारोह 

इस अवसर पर मुख्य अतिथि और बल के वरिष्ठ अधिकारियों ने इन युवा अधिकारियों के कंधों पर सितारे सजा कर उनका उत्साहवर्धन करते हुए उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। यह समारोह भारत तिब्बत सीमा पुलिस के बैंड डिस्पले के साथ हुआ।पासिंग आउट परेड के मुख्य अतिथि अनीश दयाल सिंह, भारतीय पुलिस सेवा, महानिदेशक, भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल ने पास आउट होने वाले सभी अधिकारियों को बल की मुख्य धारा में शामिल होने पर बधाई देते हुए इस बल में उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। 

🔹परम्पराओं को आगे बढ़ाते हुए बल का नाम रोशन करना 

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :मौसम विभाग ने तेज बारिश का येलो अलर्ट किया जारी, जानिए कैसा रहेगा आज का मौसम

मुख्य अतिथि ने नवनियुक्त अधिकारियों का आह्वान करते हुए कहा कि भारत तिब्बत पुलिस बल का इतिहास बहुत गौरवशाली रहा है। बल को आप लोगों से बहुत अपेक्षाएं हैं। इसलिए बल की परम्पराओं को आगे बढ़ाते हुए बल का नाम रोशन करना है। मुझे उम्मीद है कि प्रशिक्षण काल में प्राप्त प्रशिक्षण से आप हर चुनौतियों का सामना कर सकेंगे। 

🔹ई-अमोध पत्रिका का किया विमोचन

उन्होंने कहा कि युवा अधिकारी के नाते बल की पुरानी परम्पराओं के निर्वहन के साथ-साथ बल में नये विचारों का भी समावेश करें, क्योंकि इस बल में बहुत सारे अवसर आपका इंतजार कर रहे है। उन्हें प्रशिक्षण के दौरान उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले निम्नलिखित प्रशिक्षणार्थियों को विशेष बधाई देते हुए उन्हें स्वार्ड ऑफ ऑनर और विजेता ट्राफियों से सम्मानित किया।इस अवसर को अविस्मरणीय बनाते हुए मुख्य अतिथि अनीश ने ई-अमोध पत्रिका का भी विमोचन किया। इस पुस्तक में उपरोक्त कोर्सों के अब तक के सफर का संग्रहण किया गया है। 

🔹इन्हे किया सम्मानित 

28वें सहायक सेनानी/ जीडी आधार कोर्स के श्रेष्ठ प्रशिक्षणार्थी सहायक सेनानी जीडी तरुण बिष्ट को सोर्ड ऑफ ऑनर फॉर बेस्ट ऑलराउंडर ट्रेनी और बेस्ट आउटडोर ट्रेनी, सहायक सेनानी जीडी अरविन कुमार एम को बेस्ट इन इनडोर ट्रेनी ,सहायक सेनानी जीडी हिमांशु पलारिया को बेस्ट स्पोर्ट्स पर्सन ट्रेनी व 53वें जीओ कम्बैटाइजेशन कोर्स के श्रेष्ठ प्रशिक्षणार्थी में सहायक सेनानी एमओ. सागर बालू कुमार को ओफलकर आल राउण्ड बेस्ट ट्रेनी बेस्ट इन आउटडोर और सहायक सेनानी एमओ रिशू रंजन को बेस्ट इन इनडोर ट्रेनी अवार्ड से सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :पूर्व दर्जा मंत्री बिट्टू कर्नाटक के चक्काजाम की चेतावनी का असर,तीन घंटों से पूर्व ही हुआ सड़क का गड्ढा भरने का काम

🔹इन मुख्य धारा में शामिल हुए

14 सहायक सेनानी/ जीडी एवं 06 माह के कठिन प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद 12 सहायक सेनानी / चिकित्सा, 01 सहायक सेनानी / वैट कुल 27 अधिकारी, जिनमें 03 महिला सहायक सेनानी/ चिकित्सा बल की मुख्य धारा में शामिल हुए।

🔹इन राज्यों के प्रशिक्षणार्थी हुए पासआउट 

पास आउट होने वाले इन अधिकारियों में राजस्थान से 04 महाराष्ट्र से 03, उत्तर प्रदेश, झारखण्ड, केरला, उत्तराखण्ड व मध्यप्रदेश से 02-02, व आन्ध्र प्रदेश, बिहार, छतिसगढ़, दिल्ली, हिमाचल, तमिलनाडु, तेलगांना, कर्नाटक, लेह लद्दाख, एवं असम से 01-01 प्रशिक्षणार्थी हैं।मुख्य अतिथि अनीश दयाल सिंह 1988 बैच के मणिपुर कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं। लगभग 35 वर्षाें की राज्य व केंद्रीय पुलिस सेवा के लिए उन्हें सराहनीय सेवाओं के लिए पुलिस पदक और विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक से नवाजा जा चुका है।