Uttrakhand News :मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के बयान पर साधा निशाना,उत्तराखंड में सख्त नकल विरोधी कानून पहले से लागू

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के उस बयान पर निशाना साधा है, जिसमें प्रियंका गांधी ने उत्तराखंड की चुनावी रैली में पेपर लीक पर सख्त कानून बनाने की बात कही थी.

सीएम धामी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के लोगों ने उन्हें छह महीने या दो साल पुरानी स्पीच लिखकर दे दी. उसे प्रियंका गांधी ने पढ़ दिया. उन्होंने प्रियंका गांधी पर तंज कसते हुए कहा कि हम उत्तराखंड के अंदर सख्त नकल का अध्यादेश ला चुके हैं.

बता दें कि रामनगर के पीरूमदारा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा था कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो वह पेपर लीक पर सख्त कानून बनाएगी. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा था कि पूरे देश में खाली पड़े 30 लाख पदों पर शीघ्र नियुक्तियां की जाएंगी.

यह भी पढ़ें 👉  Nainital News :क्वारब में आवासीय मकानों में मलबा और पानी भरने से हुआ काफी नुकसान, पीड़ितों को सौंप 30 हजार के चेक

प्रियंका गांधी के इसी बयान पर अब राजधानी देहरादून में मीडिया को संबोधित करते हुए सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि अभी दो दिन पहले कांग्रेस पार्टी की नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तराखंड के रामनगर और एक दो स्थानों पर सभाएं की थी. मैं उनकी सभाओं के बारे में समाचार पत्रों में पढ़ रहा था. उन्होंने कहा था कि हम पेपर लीक पर कानून बनाएंगे. मैं आज सबके माध्यम से बताना चाहता हूं कि शायद कांग्रेस पार्टी के लोगों ने उन्हें जो स्पीच लिखकर दी, वह छह महीने या दो साल पुरानी होगी. उसी स्पीच को प्रियंका गांधी ने पढ़ दिया.

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :रीठागाड पट्टी तरस रही है स्वास्थ्य,सड़क और शिक्षा सुविधा के लिए, पूर्व दर्जा मंत्री कर्नाटक ने किया भ्रमण,जिलाधिकारी से वार्ता कर कनारीछीना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अविलंब निर्माण की मांग की,कहा जनसंघ के संस्थापक पूर्व विधायक गोविंद बिष्ट की कर्मस्थली में आज चलने के लिए नहीं है सीसी मार्ग ,देश की आजादी बाद भी बदहाली में रीठागाड़ पट्टी

उन्होंने कहा कि इसकी हर जगह चर्चा है, और उसके लागू होने के बाद किस प्रकार की स्थिति देश के अंदर हमारे प्रदेश की बनी है, यहां जो नकल माफिया हावी होते थे, नकल का जो अपराध होता था, गरीब बेटे और बेटियों का हक मारा जाता था, वो सारा का सारा पूरी तरह से समाप्त हो गया. सबके अंदर आशा और विश्वास का संचार पैदा हुआ है. जो पहले भी चयन के लिए इस प्रतियोगिता में भाग लेते थे, जिनका नंबर नहीं आता था, अब उन्हीं का नंबर एक साथ कई प्रतियोगी परीक्षाओं में पास होकर चयन का अवसर भी मिल रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *