Nainital News:लॉकडाउन के बाद से पहाड़ में बढ़ने लगे तेंदुए,आबादी की ओर कर रहे रुख

ख़बर शेयर करें -

पहाड़ी इलाको में बीते दो वर्षों से जंगल और आबादी क्षेत्र में तेंदुए के हिंसक होने की घटनाएं बढ़ रही हैं। इसका एक कारण वर्ष 2021 में लगे लॉकडाउन के बाद से पर्वतीय क्षेत्रों के जंगलों और आबादी क्षेत्र में तेंदुओं की संख्या बढ़ना भी है।

🔹तेंदुए आबादी की ओर रुख कर रहे

लॉकडाउन के चलते मानवीय गतिविधियां कम होने से तेंदुए जंगल और आबादी क्षेत्र में भी देखे जा चुके थे। जंगलों में आसानी से शिकार नहीं मिलने के चलते भी तेंदुए आबादी की ओर रुख कर रहे हैं। शिकार नहीं मिलने के चलते भी तेंदुए पुरुष और महिलाओं पर हमले कर रहे हैं। नंवबर से फरवरी तक तेंदुओं का मैटिंग सीजन होने के चलते भी यह आक्रामक होते हैं। 

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :भतरौजखान पुलिस ने चाय की दुकान में अवैध रूप से शराब बेच रहे 01 अभियुक्त को किया गिरफ्तार

🔹इन वजहों से बन सकते हैं हिंसक

1- जंगल में शिकार न मिलने की स्थिति में आबादी क्षेत्र में शिकार के लिए मनुष्यों पर हमला

2- जगह-जगह भवन निर्माण के चलते तेंदुए पहाड़ की ओर को मूवमेंट कर रहे हैं

3- लॉकडाउन के दौरान जंगलों में आग नहीं लगने से तेंदुओं को नुकसान नहीं पहुंचा

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :उत्तराखंड में दो दिन मौसम रहेगा साफ,एक और दो मार्च को बारिश एवं बर्फबारी का येलो एवं ऑरेंज अलर्ट किया जारी

दो साल पहले लॉकडाउन के बाद पहाड़ की ओर तेंदुओं के आने से उनकी संख्या बढ़ने की उम्मीद है। नवंबर से फरवरी तक मैटिंग सीजन के चलते भी वन्यजीव पहाड़ की ओर चले जाते हैं। शिकार सीखने के चलते शावक भी कभी-कभी मनुष्य पर हमले की कोशिश करते हैं। जंगलों में भी शिकार आसानी से नहीं मिलने से यह आबादी की ओर आ जाते हैं। इसके लिए साइंटिफिक अध्ययन की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *