Almora News :अल्मोड़ा जिले में बिनसर में आग को बुझाने के लिए वायुसेना की ली जा रही है मदद,Mi17 V5 हेलीकॉप्टर से बुझाई जा रही है आग

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में बिनसर वन्यजीव अभ्यारण में जंगल धधक रहे हैं. आग बेकाबू हो गई है और तेजी से फैलती जा रही है, जिस पर काबू पाने के लिए प्रशासन एक्शन मोड में काम कर रहा है.

आग को बुझाने के लिए वायुसेना की मदद ली जा रही है. हेलीकॉप्टर के जरिए पानी का छिड़काव किया जा रहा है. राज्य प्रशासन के अनुरोध पर वायुसेना ने Mi17 V5 हेलीकॉप्टर को आग बुझाने के लिए लगाया है.

बिनसर में लगी आग पर काबू पाने के लिए वायु सेना के Mi17 V5 हेलीकॉप्टर को लगाया गया है. हेलीकॉप्टर ने सरसावा से बिनसर वन्यजीव अभयारण्य में लगी बेकाबू आग को बुझाने के लिए उड़ान भरी. आग के बेकाबू होने के बाद राज्य प्रशासन ने वायुसेना से मदद मांगी थी.

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :कांग्रेस की 24 जुलाई से शुरू हो रही केदारनाथ धाम बचाओ पैदल यात्रा का पूर्व सीएम हरीश रावत ने किया समर्थन, यात्रा में होंगे शामिल

💠आग में झुलसकर 4 वनकर्मियों की मौत 

बिनसर वन्यजीव विहार अल्मोड़ा के सिविल सोयम वन प्रभाग के तहत आता है. बताया जा रहा है कि गुरुवार दोपहर में जंगल में आग की ख़बर मिली थी, जिसके बाद तत्काल आग पर काबू पाने की कोशिश की गई. फॉरेस्ट रेंजर मनोज सनवाल ने बताया कि दोपहर तीन बजे बिनसर में आग लगने की सूचना मिली थी, जिसके बाद आठ लोगों की टीम को मौके पर भेजा गया था.

तेज गर्मी और हवाओं की वजह से आग ने विकराल रूप धारण कर लिया था. उन्होंने बताया कि जब बचाव टीम मौके पर पहुंची तो तेज हवाओं की वजह से आग ने विकराल रूप ले लिया और उन्हें भी अपनी चपेट में ले लिया. जिससे चार वनकर्मियों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि चार बुरी तरह झुलस गए हैं, उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

यह भी पढ़ें 👉  Almora Breaking News :रोडवेज की बस से कुचलकर सफाई कर्मचारी की दर्दनाक मौत,हादसे के बाद से बस का चालक मौके से फरार

उत्तराखंड में पिछले महीने से ही जंगलों में आग धधक रही है. ऐसे में आग पर काबू पाने में सरकार को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है. पिछले दिनों अल्मोड़ा, बागेश्वर और नैनीताल के जंगलों में भी आग लग गई थी, जिसकी वजह से कई दिनों तक जंगल जलते रहे हैं. जंगलों की आग की वजह से अब तक प्रदेश सरकार को करोड़ों रुपये की वन संपदा का नुकसान हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *