अल्मोड़ा आजीविका मिशन योजनान्तर्गत द्वाराहाट की महिलाएँ बन रही है आत्मनिर्भर

ख़बर शेयर करें -

अल्मोड़ा राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन योजनान्तर्गत विकासखण्ड द्वाराहाट के ग्राम असगोली में मॉ दुर्गा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा पिरूल से विभिन्न प्रकार के उत्पाद बनाये जा रहे है। परियोजना निदेशक चंदा फर्त्याल ने बताया कि नैनीताल जनपद के रामनगर में प्रस्तावित जी-20 सम्मेलन में भी इन उत्पादों का स्टॉल लगाने हेतु समूह की महिलाएं उत्पाद तैयार कर रही है।

 

यह भी पढ़ें 👉  लो जी कर लो बात उत्तराखंड के इस जनपद की महिला ग्रामप्रधान को विजिलेंस ने दबोचा रिश्वतखोरी में

 

 

 

 

उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन योजनान्तर्गत महिलाओं को पाइन क्राफ्ट का प्रशिक्षण दिया गया, प्रशिक्षण के उपरान्त महिलाओं द्वारा विभिन्न प्रकार के पिरूल के उत्पाद बनाये जा रहे है जैसे टोपी, टोकरी, थाली, हॉटकेस, शॉपीस ट्रे, कटोरे, पेन स्टेण्ड आदि। उन्होंने बताया कि इन उत्पादों को स्थानीय मेले, स्थानीय बाजार, आजीविका महोत्सव, हिंलास आउटलेट में विपणन किया जा रहा है। पिरूल के इस अभिनव प्रयोग से न केवल वनाग्नि रोकने का प्रयास हुआ है अपितु बिना लागत के महिलाओं को एक अच्छा आय का स्रोत भी प्राप्त हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में बारिश से यहाँ भरभरा कर गिरी मकान की छत एक घायल

 

Ad
Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments