Uttrakhand News :उत्तराखंड सरकार ने पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड और दिव्य फार्मेसी की दर्जन से अधिक दवाओं के उत्पादन को निलंबित करने के आदेश पर लगाई रोक

ख़बर शेयर करें -

पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड और दिव्य फार्मेसी के एक दर्जन से अधिक दवाओं के विनिर्माण लाइसेंस को निलंबित करने वाले आदेश के कार्यान्वयन पर शुक्रवार को अंतरिम रोक लगा दी गई।

उत्तराखंड सरकार के आयुष सचिव पंकज कुमार पांडे ने एक आदेश में कहा कि एक उच्च स्तरीय समिति की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट के आधार पर तत्काल प्रभाव से अंतरिम रोक लगाई जा रही है। मामले की जांच कर रही समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा, “निलंबन का आदेश अवैध है और लाइसेंसिंग प्राधिकारी द्वारा इसे उस तरीके से पारित नहीं किया जाना चाहिए, जिस तरह से इसे पारित किया गया है।”

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :सड़क किनारे घास काट रही महिला पर किया टाइगर ने हमला,महिला गंभीर रूप से हुई घायल

💠लाइसेंस को किया निलंबित

कंपनियों ने पिछले महीने उत्तराखंड राज्य लाइसेंसिंग प्राधिकरण द्वारा जारी निलंबन आदेश को चुनौती दी थी। इसमें कहा गया, ”चूंकि कानून द्वारा स्थापित प्रक्रिया का पालन किए बिना लाइसेंस रद्द कर दिया गया है, इसलिए समिति उचित निर्णय के लिए अपनी रिपोर्ट उत्तराखंड सरकार को सौंप रही है।”

राज्य लाइसेंसिंग प्राधिकरण, आयुर्वेदिक और यूनानी सेवाओं ने पिछले महीने ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट 1945 और ड्रग्स एंड मैजिक रेमेडीज (आपत्तिजनक विज्ञापन) अधिनियम 1954 के तहत 14 पतंजलि उत्पादों के विनिर्माण लाइसेंस को निलंबित कर दिया था।

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :कई राज्यों में तापमान में एक बार फिर बढ़ोत्तरी देखने को मिलेगी,अगले पांच दिनों में तापमान में हो सकती है वृद्धि, जानिए कैसा रहेगा आज का मौसम

जिन दवाओं के विनिर्माण लाइसेंस को निलंबित कर दिया गया था उनमें स्वासारि गोल्ड, स्वासारि वटी, ब्रोंकोम, स्वासारि प्रवाही, स्वासारि अवलेह, मुक्ता वटी एक्स्ट्रा पावर, लिपिडोम, बीपी ग्रिट, मधुग्रिट, मधुनाशिनी वटी एक्स्ट्रा पावर, लिवामृत एडवांस, लिवोग्रिट, आईग्रिट गोल्ड और पतंजलि दृष्टि शामिल हैं। आँख में डालने की दवाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *