Uttrakhand News :उत्तराखंड में पिछले एक वर्ष में घटी बेरोजगारी दर, महिला श्रमिकों को भी मिला काम,6.5 प्रतिशत तक आया उछाल

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड में पिछले एक वर्ष में बेरोजगारी की दर 3.5 प्रतिशत घटी है। वर्ष 2021-22 में बेरोजगारी की दर 8.4 प्रतिशत थी, जो वर्ष 2022-23 में घटकर 4.9 प्रतिशत रह गई है।

💠रोजगार के अवसरों में वृद्धि हुई है।

विशेष रूप से महिलाओं की भागीदारी अच्छी-खासी बढ़ी है।पुष्कर सिंह धामी सरकार के लिए आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (PLFS) के आंकड़े राहत बंधाने वाले हैं।

💠पीएफएलएस ने हाल ही में जारी किए आंकड़े

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) श्रमिकों की स्थिति को समझने के लिए निश्चित समयांतराल में यह सर्वेक्षण कराता है। पीएलएफस ने हाल ही में राज्यवार आंकड़े जारी किए हैं। इसमें प्रदेश में रोजगार मिलने के मामले में बड़ा सुधार देखने को मिला है। साथ में रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए धामी सरकार के प्रयासों को भी बल मिला है। विभिन्न स्तर पर रोजगार के अवसर तेजी से बढ़े हैं।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :कैंसर के उपचार में इस्तेमाल होने वाली दवा के दुष्प्रभावों को कम करने में कारगर साबित हो सकती है बिच्छू घास

उत्तराखंड में विशेष रूप से औद्योगिक निवेश, प्राथमिक क्षेत्र एवं सेवा क्षेत्र को प्रोत्साहित करने को उठाए गए सरकार के कदमों रोजगार की नई संभावनाओं को खोल रहे हैं। वर्ष 2021-22 में उत्तराखंड में श्रम बल की भागीदारी 55.9 प्रतिशत थी। वर्ष 2022-23 में 4.2 प्रतिशत वृद्धि के साथ यह 60.1 प्रतिशत पहुंच गई। महिलाओं के संबंध में यह आंकड़ा प्रदेश के लिए सुखद है।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :अयोध्या में नंदा देवी के साथ प्रभु श्रीराम, माता सीता के जागरों की प्रस्तुति देंगी जागर गायिका पद्मश्री बसंती बिष्ट

💠साल 2021-22 में महिल श्रम बल की भागीदारी

वर्ष 2021-22 में प्रदेश में महिला श्रम बल की भागीदारी 34.6 प्रतिशत थी। एक वर्ष में यानी वर्ष 2022-23 में यह बढ़कर 41.1 प्रतिशत हो गई। इसमें भी 6.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। धामी सरकार के लिए संतोषजनक यह भी है कि शहरों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर बढ़े हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *