Uttrakhand News :बीमारी का बहाना बनाकर हुआ अस्पताल में भर्ती,खाल बेचने के लिए ग्राहक का कर रहा था इंतजार, आरोपी गिरफ्तार

ख़बर शेयर करें -

दो तेंदुओं को मारकर शिकारी बीमारी का बहाना बनाकर अस्पताल में भर्ती हो गया। वह खाल बेचने के लिए ग्राहक का इंतजार कर रहा था, लेकिन पुलिस पहुंच गई और उस धर दबोचा।

💠उसके बैग से तेंदुए की दो खाल बरामद हुईं।

बहुद्देश्यीय भवन में मामले का खुलासा करते हुए एसएसपी प्रह्लाद नारायण मीणा ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि एक शिकारी तेंदुओं की खाल के साथ हल्द्वानी में छुपा है। पता किया तो पुलिस को जानकारी मिली कि शिकारी मुखानी स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती है।

💠बृहस्पतिवार को पुलिस जब अस्पताल पहुंची तो डॉक्टरों ने बताया कि वह व्यक्ति पूरी तरह से चुस्त है, लेकिन वह खुद को बीमार बता रहा है। उसे अस्पताल से जाने के लिए भी कहा जा रहा है लेकिन वह बार-बार खुद के बीमार होने की बात बोल रहा है। पुलिस ने जब उससे पूछताछ की तो वह संदिग्ध लगा। उसके बैग की तलाशी लेने पर तेंदुओं की दो खाल बरामद हुईं।

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :उत्तराखंड में कहर ढाह रही गर्मी, लू के थपेड़ों से जनजीवन प्रभावित, जानिए कैसा रहेगा आज का मौसम

💠पूछताछ में उसने अपना नाम नवीन चंद्र निवासी कपकोट जिला बागेश्वर बताया। आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसने फंदा लगाकर तेंदुओं का शिकार किया था और पिछले डेढ़ माह से अपने पास खाल रखी थीं। उसका एक व्यक्ति से फोन पर संपर्क हुआ जिसने उससे खाल खरीदने के लिए कहा था। वह उस व्यक्ति को खाल बेचने के लिए ही करीब तीन दिन पहले हल्द्वानी आया था। पुलिस की पकड़ में न आए इसलिए वह किसी धर्मशाला या होटल में नहीं रूका, बल्कि बीमारी का बहाना बनाकर एक अस्पताल में भर्ती हो गया। उसने बताया कि गुलदार को मारने के बाद बहुत ही चोरी छुपे कपकोट में उनकी खालें निकालीं थीं। पुलिस ने संबंधित धाराओं में आरोपी पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।

💠चीन बार्डर बंद अब नेपाल के रास्ते होती है तस्करी

हल्द्वानी। पुलिस से जानकारी मिली कि ज्यादातर शिकारी राज्य के पहाड़ी सीमांत क्षेत्रों में रहते हैं जिससे शिकार को मारने के बाद आसानी से दूसरे देशों में उसे बेचा जा सके। गलवां विवाद से पहले चीन बार्डर से वन्य जीव के खालों की तस्करी की जाती थी लेकिन गलवां विवाद के बाद वह रास्ता बंद हो गया है, इसलिए शिकारी नेपाल के रास्ते भी तस्करी कर रहे हैं। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए शिकारी के फोन की भी जांच की जा रही है, जिससे पता चले कि उससे खाल खरीदने कौन आ रहा था। बाजार में दो खाल का मूल्य 12 लाख रुपये तक बताया जा रहा है। आरोपी ने बताया कि वह मजूदरी करता है और ज्यादा रकम के लालच में यह जुर्म कर बैठा। हालांकि पुलिस का मानना है कि दो तेंदुओं का शिकार करना अकेले संभव नहीं है। साथ ही एक गुलदार की खाल पर कट का निशान भी लगा हुआ है। माना जा रहा है खाल उतारते समय ऐसा हुआ होगा.