National News :शुभ घड़ी की तैयारी, पीएम मोदी को आज राम मंदिर के उद्घाटन का न्योता देंगे सीएम योगी आदित्यनाथ

ख़बर शेयर करें -

श्रीराम मंदिर में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा की तैयारी तेज है। मंगलवार को दिल्ली में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए की गई तैयारी और विकास परियोजनाओं की समीक्षा होगी। इसमें शामिल होने के लिए अयोध्या के कमिश्नर गौरव दयाल व डीएम नितीश कुमार दिल्ली रवाना हो गए हैं।

💠कमिश्नर ने सोमवार की अफसरों के साथ बैठक की।

श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा को लेकर दिल्ली की बैठक अहम मानी जा रही है। बैठक में शामिल होने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ भी पहुंच रहे हैं। इसके अलावा श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारियों की भी इस बैठक में शामिल होने की संभावना है। बैठक में प्राण प्रतिष्ठा के लिए अब तक की गई तैयारियों के व्योरे के साथ अयोध्या की परियोजनाओं का खाका लेकर अयोध्या के कमिशनर व डीएम भी पहुंच रहे हैं। बहुत संभावना है कि सीएम की मौजूदगी में ही पीएम के समक्ष प्राण प्रतिष्ठा की तैयारी और विकास कार्यों का खाका प्रस्तुत किया जाए।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :थाना लमगड़ा पुलिस ने दुष्कर्म/पोक्सो एक्ट के 01 आरोपी को किया गिरफ्तार

💠दिल्ली समीक्षा को लेकर सोमवार को देर शाम कमिश्नर ने एडीए में डीएम नितीश कुमार, वीसी विशाल सिंह समेत अन्य अफसरों के साथ अर्जेंट बैठक की। अयोध्या की बड़ी परियोजनाओं के साथ प्राण प्रतिष्ठा में आने वाली भीड़ को सहेजने को लेकर बनाए गए प्लान पर एक बार फिर चर्चा की गई। इसके पूर्व अफसरों ने पार्किंग सहित अन्य सुविधाओं को लेकर भ्रमण किया। कमिश्नर गौरव दयाल ने बताया कि दिल्ली में प्राण प्रतिष्ठा समारोह की तैयारी और विकास परियोजनाओं की समीक्षा होगी। इसके लिए वह और डीएम दिल्ली जा रहे हैं। इसके आगे की जानकारी दिल्ली में ही होगी।

यह भी पढ़ें 👉  देश विदेश की ताजा खबरें बृहस्पतिवार 11 जुलाई 2024

💠तय हो सकती प्राण प्रतिष्ठा की तिथि

श्रीराम मंदिर में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा 15 से 24 जनवरी 2024 के बीच प्रस्तावित है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद रहेंगे। सूत्रों की माने तो श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने इसकी जानकारी पीएमओ को पहले ही दे दी है। बैठक में पीएम को हाथेां हाथ निमंत्रण देने की योजना है। ऐसी भी संभावना है कि मंगलवार की समीक्षा के बाद प्राण प्रतिष्ठा की तारीख सामने आ सकती है। साथ ही अफसरों को नए निर्देश मिल सकते हैं।