Almora News :अभी तक नहीं मिला बिनसर में जंगल की आग की चपेट में आने से छह वन कर्मियों को 10-10 लाख का मुआवजा, मृतकों के परिजन कभी न भरने वाले जख्मों का दर्द सहते हुए मुआवजे का कर रहे है इंतजार

ख़बर शेयर करें -

अल्मोड़ा जिले में वनाग्नि ने जमकर कहर बरपाया। बिनसर अभयारण्य में जंगल की आग की चपेट में आने से छह वन कर्मियों की मौत हो गई थी जबकि दो अब भी दिल्ली एम्स में जीवन और मौत से संघर्ष कर रहे हैं।

घटना के बाद मृतक के परिजनों और घायलों को वर्ल्ड वाइड फंड, वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट और आपदा मद से राहत राशि मिली। सरकार ने भी मृतकों के परिजनों के जख्मों पर मरहम लगाने के लिए 10-10 लाख मुआवजा दैने की घोषणा की थी जिसका अब तक इंतजार है।

इस साल फायर सीजन में वनाग्नि की चपेट में आने से सबसे अधिक 11 लोग काल के गाल में समाए। मई महीने में सोमेश्वर में जंगल की आग में जलने से चार नेपाली श्रमिकों के साथ एक स्थानीय युवक की मौत हो गई। बीते 13 जुलाई को बिनसर अभयारण्य में जंगल की आग में चार वन कर्मी जिंदा जल गए जबकि दो की दिल्ली एम्स में उपचार के दौरान मौत हो गई। दो वन कर्मियों का अब भी उपचार चल रहा है। घटना के बाद मृतक के परिजनों को आपदा मद से चार, वर्ल्ड वाइड फंड से तीन, वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट की तरफ से एक लाख रुपये सहायता राशि दी गई। वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट ने घायलों का साथ देते हुए उन्हें 25,000 रुपये सहायता राशि दी जबकि वन विभाग और आपदा प्रबंधन विभाग उनका निशुल्क उपचार कराने की बात कर रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :संसदीय कार्यप्रणाली को अब पढ़ेंगे ही नहीं बल्कि किरदार भी निभाएंगे सरकारी और अशासकीय विद्यालयों के बच्चे,युवा संसद का किया जाएगा आयोजन

घटना के बाद मृतकों के परिजनों से हम साथ खड़े हैं की बात करते हुए सीएम ने 10-10 लाख रुपये मुआवजा राशि देने की घोषणा की थी। घटना को 23 दिन बीत गए, लेकिन अब तक यह घोषणा धरातल पर नहीं उतर सकी है और मृतकों के परिजन कभी न भरने वाले जख्मों का दर्द सहते हुए मुआवजे का इंतजार कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :लापता हुए युवक को अल्मोड़ा क्षेत्र से 12 घंटे में ही पुलिस ने किया बरामद

💠दोनों घायलों की हालत स्थिर

डीएफओ सिविल सोयम हेम चंद्र गहतोड़ी ने बताया कि दोनों घायलों का दिल्ली एम्स में उपचार चल रहा है। चिकित्सक हर रोज उनके स्वास्थ्य की जानकारी साझा कर रहे हैं। बताया कि

शासन को मृतकों के परिजनों से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराई गई है। 10 लाख रुपये मुआवजा देने संबंधी कोई भी दिशा-निर्देश फिलहाल प्राप्त नहीं हुए हैं। जो दिशा-निर्देश मिलेंगे उसके अनुरूप कार्यवाही होगी।

-विनीत तोमर, डीएम, अल्मोड़ा।

💠इनकी हुई थी मौत

त्रिलोक सिंह मेहता, करन आर्या, दीवान राम, पूरन सिंह, कृष्ण कुमार, कुंदन नेगी।

💠इनका चल रहा है उपचार

भगवत सिंह, कैलाश भट्ट।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *