Uttrakhand News :उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत को दी करोड़ों की सौगात,साइंस सिटी का किया शिलान्यास,नशा मुक्ति केंद्र का भी किया शुभारंभ

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को चंपावत को करोड़ों की सौगात दी. उन्होंने 55.53 करोड़ की लागत से निर्मित चंपावत साइंस सिटी का भूमि पूजन और शिलान्यास किया.

💠इसके साथ ही नशा मुक्ति केंद्र का भी शुभारंभ किया.

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि विज्ञान केंद्र चंपावत के विकास में मील का पत्थर साबित होगा. उत्तराखंड विज्ञान प्रौद्योगिकी क्षेत्र में उत्कृष्ट बने. इसके लिए निरंतर कार्य जारी हैं. विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवाचार के प्रचार-प्रसार के लिए नोडल संस्था यूकॉस्ट के माध्यम से कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :आज प्रदेश में शुष्क बना रह सकता है मौसम, जानिए पहाड से लेकर मैदान तक कैसा रहेगा आज का मौसम

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि विज्ञान, विकास का मूल आधार है. विज्ञान, संवेदनशील तरीकों से समस्याओं का समाधान करने में मदद करता है. चंपावत का विज्ञान केंद्र राज्य में देहरादून, अल्मोड़ा के बाद तीसरा विज्ञान केंद्र होने जा रहा है. देश की 5वीं साइंस सिटी देहरादून में बनेगी. प्रदेशभर के प्रतिभाशाली छात्रों को वैज्ञानिक क्रांति की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए लगातार काम जारी हैं. सरकार ने विज्ञान, प्रौद्योगिकी और इनोवेशन के प्रचार-प्रसार के लिए हर जिले के लिए “मुख्यमंत्री लैब ऑन व्हील्स” को मंजूरी दी है.

उन्होंने जिक्र किया कि हर ब्लॉक में स्टेम एजुकेशन सिस्टम द्वारा विज्ञान, तकनीक, प्रौद्योगिकी और गणित को विद्यार्थियों की योग्यता और रुचि के अनुसार रोचक तरीकों से सिखाया जाएगा. उत्तराखंड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद (यूकॉस्ट) राज्य के 95 विकास खंडों में स्टेम लैब को स्थापित करने के लिए प्रयासरत है. पहले चरण में सीमांत जिलों सहित देहरादून और अगले चरण में सभी ब्लॉकों में स्टेम लैब स्थापित किए जाएंगे.

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :यहा बाइक से निकले दो युवक दो दिन से थे लापता,दोनों बाइक समेत गहरी खाई में मिले,एक की मौत,दूसरा गंभीर रूप से घायल

कार्यक्रम में प्रमुख सचिव आरके. सुधांशु, सचिव शैलेष बगौली, विशेष सचिव डॉ. पराग मधुकर धकाते महानिदेशक यूकॉस्ट प्रो. दुर्गेश पंत सहित संबंधित पदाधिकारी सहित अन्य उपस्थित रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *