Uttrakhand News :विधानसभा का बजट सत्र आज से होगा शुरू,पहले दिन सदन में राज्यपाल का होगा अभिभाषण,27 फरवरी को पेश हो सकता है बजट

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड विधानसभा का बजट सत्र 26 फरवरी से शुरू होगा। पहले दिन सदन में राज्यपाल का अभिभाषण होगा। विधानसभा सचिवालय ने सत्र बेहतर ढंग से संचालित करने की सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं।

राज्यपाल के अभिभाषण में सरकार के वर्ष 2025 तक उत्तराखंड को देश का श्रेष्ठ व सशक्त राज्य बनाने का रोडमैप दिख सकता है।

सोमवार को सुबह 11 बजे से विस का बजट सत्र शुरू होगा। इसके बाद राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) का अभिभाषण होगा। पहले दिन अभिभाषण के अलावा अन्य कोई विधायी कार्य नहीं होंगे। राज्यपाल के अभिभाषण के बाद सदन की कार्यवाही स्थगित हो जाएगी। भोजनावकाश के बाद तीन बजे से फिर से सदन चलेगा।

बजट सत्र के लिए पक्ष-विपक्ष के सभी विधायक देहरादून पहुंच गए हैं। विधानसभा सचिवालय ने भी सत्र के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली है। विधायकों की ओर से 300 से अधिक प्रश्न मिले हैं। रविवार को विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी भूषण की अध्यक्षता में कार्यमंत्रणा समिति की बैठक होनी थी, लेकिन देर शाम तक बैठक शुरू नहीं हो पाई थी।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :यहा 54 से अधिक गांवों में 21 घंटे बिजली रही गुल,40 हजार से अधिक की आबादी को झेलनी पड़ी परेशानी

विपक्ष की ओर से नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य और कांग्रेस विधायक प्रीतम सिंह ने कार्यमंत्रणा से इस्तीफा दे रखा है, जिससे विपक्ष ने कार्यमंत्रणा में शामिल होने से इन्कार किया।

💠27 फरवरी को पेश हो सकता है बजट

प्रदेश सरकार 27 फरवरी को बजट पेश कर सकती है। हालांकि, कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में तय किया जाएगा कि बजट किस दिन सदन में लाया जाए। प्रदेश सरकार की ओर से वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए 90 हजार करोड़ रुपये का अनुमानित बजट लाने की संभावना है। जिसमें सरकार का फोकस सशक्त उत्तराखंड का संकल्प रहेगा। इसके अलावा महिलाओं, युवाओं के लिए स्वरोजगार, किसानों के कल्याण, शिक्षा, स्वास्थ्य क्षेत्र में सरकार नई योजनाओं की घोषणा कर सकती है।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :लोकसभा चुनावों के दृष्टिगत अल्मोड़ा पुलिस मुस्तैदी से कर रही है कार्य,अवैध मादक पदार्थों,अवैध नगदी की बरामदगी,संदिग्ध वस्तु /व्यक्ति की तलाश के लिये चल रहा है चेकिंग अभियान

💠कार्यमंत्रणा बैठक की कोई सूचना नहीं

नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य का कहना है कि पहले ही कार्यमंत्रणा समिति से इस्तीफा दे दिया गया है, जिससे बैठक में जाने का कोई औचित्य नहीं है, लेकिन प्रदेश सरकार की तरफ से भी किसी तरह की कोई पहल नहीं की गई और न ही विधानसभा से बैठक की सूचना मिली है। संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने फोन कर इतना जरूर कहा कि विपक्ष को कार्यमंत्रणा बैठक में आना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *