Uttrakhand News :38वें राष्ट्रीय खेलों में खिलाड़ियों के ठहरने के लिए नहीं बनाए जाएंगे खेल गांव,आयोजन स्थल के निकट होटलों में ठहरेंगे खिलाड़ी

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड में होने वाले 38वें राष्ट्रीय खेलों में खिलाड़ियों के ठहरने के लिए खेल गांव नहीं बनाए जाएंगे। बल्कि खेलों में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों के ठहरने की व्यवस्था आयोजन स्थल के निकट होटलों में की जाएगी।

प्रदेश सरकार व खेल विभाग राष्ट्रीय खेलों की तैयारी में जुटे हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी व खेल मंत्री रेखा आर्या नियमित राष्ट्रीय खेलों की तैयारी की समीक्षा कर रहे हैं।

उत्तराखंड में अक्टूबर-नवंबर में आयोजित होने वाले 38वें राष्ट्रीय खेलों का आयोजन सात स्थानों पर किया जाएगा। इनमें देहरादून, ऋषिकेश, हरिद्वार, हल्द्वानी, नैनीताल, रुद्रपुर व गुलरभोज शामिल हैं। इनमें देहरादून में सर्वाधिक 16 खेल स्पर्धाएं आयोजित होंगी।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :आज से शुरू हुआ अग्निशमन सेवा सप्ताह,एसएसपी अल्मोड़ा ने दी शहीद अग्निशमन कर्मियों को दी श्रद्धांजलि, अग्नि सुरक्षा प्रचार वाहनों को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

💠आयोजन स्थल के निकट होटलों में ठहरेंगे खिलाड़ी

खिलाड़ियों को इन सभी स्थानों पर ठहराने के लिए खेल गांव का निर्माण किया जाना था, लेकिन अब सरकार खेल गांव न बनाकर आयोजन स्थल के निकट के होटलों में खिलाड़ियों को ठहराने की व्यवस्था कर रही है।

बीते वर्ष गोवा में आयोजित हुए 37वें राष्ट्रीय खेलों में भी खिलाड़ियों को होटलों में ठहराया गया था, जिसकी प्रशंसा खिलाड़ियों ने भी की थी।

गोवा की तर्ज पर उत्तराखंड में भी खिलाड़ियों को होटल में ठहराया जाएगा। युवा कल्याण विभाग के संयुक्त निदेशक अजय अग्रवाल ने बताया कि राष्ट्रीय खेलों में शामिल होने आने वाले खिलाड़ियों के ठहरने की व्यवस्था आयोजन स्थल के नजदीक स्थित होटलों में की जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :10 मई से शुरू होने वाली केदारनाथ यात्रा में एक दिन में 4,000 घोड़ा-खच्चरों का किया जाएगा संचालन,हेलिकाॅप्टर सेवा का संचालन करने वाली कंपनियों के लिए इस बार अलग से एसओपी की जाएगी तैयार

💠दस हजार खिलाड़ी ले सकते हैं हिस्सा

उत्तराखंड में आयोजित होने वाले 38वें राष्ट्रीय खेलों में 10 हजार से अधिक खिलाड़ियों के हिस्सा लेने की संभावना है। खेलों के लिए सभी सुविधाओं पर ध्यान दिया जा रहा है। मेडिकल, एंटी डोपिंग, सुरक्षा, आवास, परिवहन व स्वयंसेवकों से संबंधित माइक्रोप्लान तैयार कर लिए गए हैं। अवस्थापना संबंधी निर्माण कार्य लगभग पूरे हो गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *