Uttrakhand News :मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में गडकरी से शिष्टाचार भेंट कर रोड कनेक्टिविटी से जुड़े कई प्रस्तावों पर की चर्चा,प्रसिद्ध कैंची धाम और ऋषिकेश बाइपास के प्रस्ताव समेत दो अन्य प्रस्तावों पर दी सहमति

ख़बर शेयर करें -

केंद्रीय सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने प्रसिद्ध कैंची धाम और ऋषिकेश बाइपास के प्रस्ताव समेत दो अन्य प्रस्तावों पर सैद्धांतिक सहमति दे दी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में गडकरी से शिष्टाचार भेंट कर रोड कनेक्टिविटी से जुड़े कई प्रस्तावों पर चर्चा की।

सीएम ने गढ़वाल और कुमाऊं को जोड़ने वाली करीब 257 किमी लंबी खैरना-रानीखेत-भतरौंजखान-भिकियासैंण-देघाट-महलचौरी-नागचुलाखाल-बुंगीधार-बैंजरों सड़क को राष्ट्रीय राजमार्ग के रूप में अधिसूचित करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि यह मार्ग पांच विधानसभा क्षेत्रों नैनीताल, रानीखेत, सल्ट, कर्णप्रयाग व थैलीसैंण को जोड़ेगा। देहरादून में रिंग रोड प्रोजेक्ट की मांग पर भी सहमति जताई। उन्होंने मोहकमपुर से अजबपुर तक एलिवेटेड रोड के प्रस्ताव पर भी सहमत हुए। वह 40 किमी लंबे देहरादून-मसूरी रोड कनेक्टिविटी के प्रस्ताव पर भी राजी हो गए। सीएम ने खटीमा शहर के लिए भी रिंग रोड बनाने, हल्द्वानी बाइपास बनाने, पंतनगर एयरपोर्ट के लिए बाइपास बनाने के साथ ही चंपावत, लोहाघाट, पिथौरागढ़ में भी बाइपास बनाने का अनुरोध किया।

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :उत्तराखंड में पल-पल बदल रहा है मौसम,मौसम विभाग ने 16 जुलाई तक भारी बारिश का येलो अलर्ट किया जारी

💠छह स्टेट हाईवे को एनएच अधिसूचित किया जाए

मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि केंद्र ने 2016 में राज्य के 06 स्टेट हाईवे खैरना-रानीखेत, बुआखाल-देवप्रयाग, देवप्रयाग-गजा-खाड़ी, पांडुवाखाल नागचुलाखाल-बैजरों, बिहारीगढ़-रोशनाबाद और लक्ष्मणझूला-दुगड्डा-मोहन-रानीखेत को राष्ट्रीय राजमार्ग के रूप में उच्चीकृत करने की सैद्धांतिक सहमति दी थी। इन मार्गों की अधिसूचना जारी करने का अनुरोध किया। सीएम ने 189 किमी लंबे काठगोदाम-भीमताल-धानाचूली- मोरनौला- खेतीखान-लोहाघाट-पंचेश्वर मोटर मार्ग को भी राष्ट्रीय राजमार्ग के रूप में अधिसूचित करने का अनुरोध किया।

💠मोहकमपुर से अजबपुर तक एलिवेटेड मार्ग

सीएम ने मोहकमपुर आरओबी से अजबपुर आरओबी तक (विधान सभा चौक से मोहकमपुर तक) के मार्ग को एलिवेटेड मार्ग के रूप में बदलने का अनुरोध किया। इसकी 452 करोड़ लागत का अनुमान है। उन्होंने इसे वार्षिक योजना 2024-25 में शामिल करने का अनुरोध किया। उन्होंने देहरादून शहर की वाहनों की बढ़ती संख्या के देखते हुए 51.59 किमी लंबी देहरादून रिंग रोड बनाने का मसला उठाया। यह कार्य एनएचएआई द्वारा किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :12वीं पास करने वाली बालिकाओं को सरकार देगी 51 हजार रुपये,30 नवंबर तक कर सकते हैं आवेदन

💠1432 करोड़ में बनेगा ऋषिकेश बाइपास

आशारोड़ी से झाझरा तक कुल 12 किमी लंबाई में चार-लेन का निर्माण कार्य प्रगति पर है। अवशेष कार्य का संरेखण कर मार्ग की डीपीआर बनाई जा रही है। शेष कार्य की स्वीकृति के साथ ही 1432 करोड़ लागत की 17.88 किमी ऋषिकेश बाइपास सड़क बनाने के लिए केंद्रीय मंत्री ने सैद्धांतिक सहमति दी।

💠मसूरी-देहरादून रोड से कम होगा ट्रैफिक का दबाव

सीएम ने बताया कि मसूरी-देहरादून रोड के निर्माण से देहरादून शहर को ट्रैफिक व भीड़भाड़ से मुक्त किया जा सकेगा। दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेस वे और हिमाचल, पंजाब आदि के लिए मसूरी जाने वाले यातायात को देहरादून शहर में प्रवेश किए बिना सीधे मसूरी भेजने में मदद मिलेगी। कनेक्टिविटी एनएच सात पर झाझरा गोल चक्कर से शुरू होकर लाइब्रेरी चौक के पास मसूरी में समाप्त होगा। परियोजना की अनुमानित लागत 3425 करोड़ की डीपीआर बनाई जा रही है। गडकरी ने इस पर सैद्धांतिक सहमति प्रदान की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *