Uttrakhabd News :यहॉ बिना लाइसेंस के चल रहे अस्पताल हुए सील, लगा 50 हजार का जुर्माना

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड में बिना लाइसेंस चल रहे अस्पतालों और पैथ लैब पर लगातार एक्शन हो रहा है। अब सीएमओ डॉक्टर मनीष दत्त के निर्देश पर एससीएमओ डा. आरके सिंह की छापेमारी में तीन निजी अस्पताल बगैर पंजीकरण संचालित होते पाए गए ।

जिन्हें सील करने के साथ ही 50 हजार रुपए जुर्माना की कार्रवाई की गई है।

स्वास्थ्य विभाग के छापे से क्षेत्र में बिना दस्तावेजों के अस्पताल संचालित करने वालों में हड़कंप मचा रहा। बुधवार को एससीएम डा. आरके सिंह की ओर से पथरी और सुल्तानपुर क्षेत्र के प्राइवेट अस्पतालों में छापेमारी की गई। इस दौरान सुल्तानपुर के प्राइवेट अस्पतालों में से एक का पंजीकरण 2019 से खत्म हुआ मिला। जिस पर उसे सील कर दिया गया।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :थाना लमगड़ा पुलिस ने दुष्कर्म/पोक्सो एक्ट के 01 आरोपी को किया गिरफ्तार

💠बिना पंजीकरण के चल रहे थे अस्पताल

धनपुरा में दोनों अस्पताल बिना पंजीकरण के चलते हुए मिले। जिससे एसीएमओ के निर्देश पर डॉक्टरों की टीम की ओर से उन्हें भी सील कर दिया गया। हैरत करने वाली बात यह है कि सील किए गए एक अस्पताल का एक सितंबर को शुभारंभ होना था, लेकिन बिना पंजीकरण के मरीजों का उपचार शुरू कर दिया गया।

💠स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही आई सामने

बताया जाता है कि पहले से संचालित अस्पताल के चिकित्सक स्वास्थ्य कार्ड घोटाले में फंस चुके हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के चलते उसके बाद भी अस्पताल को संचालित किया जा रहा था। जिन भवनों में अस्पतालों का संचालन किया जा रहा था, वह पंचायतों में जनप्रतिनिधि रह चुके हैं।

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश समेत अन्य पहाड़ी राज्यों के लिए मौसम विभाग ने रेड अलर्ट किया जारी,नदियों का बढ़ा जलस्तर

💠50 हजार रुपये का लगा जुर्माना

एसीएमओ डॉ. आरके सिंह ने बताया कि बिना पंजीकरण के अस्पताल का संचालन करने पर तीन अस्पताल प्रबंधनों पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाने के साथ ही वाद दायर किया जाएगा। एसीएमओ डॉक्टर अनिल वर्मा ने बताया कि विभाग द्वारा की जा रही कार्रवाई लगातार जारी रहेगी। हरिद्वार में हो रही इस कार्रवाई से फर्जी अस्पतालों पर लगाम लगेगी।