Almora News:बारिश का कहर, पेड़ गिरने से कई वाहन क्षतिग्रस्त,सड़के बंद होने से लोगो की बढ़ी परेशानी

ख़बर शेयर करें -

जिले में बीते दो दिनों से लगातार हो रही बारिश से जनजीवन पटरी से उतर गया है। बारिश के बाद जिले में जिले को लोहाघाट, चंपावत से जोड़ने वाले प्रमुख स्टेट हाईवे सहित छह सड़कें बंद हैं, इससे 60 से अधिक गांवों की 15 हजार की आबादी का शेष दुनिया से सड़क संपर्क कट गया है।

🔹खनिया में दो कार और एक स्कूटी पर गिरा पेड़ 

रानीखेत के खनिया में रविवार को बारिश और अंधड़ से दो कार व एक स्कूटी पर विशालकाय पेड़ गिर गया। इस घटना में राजन और ललित चौहान की कारें, सुरेंद्र सिंह बिष्ट की स्कूटी क्षतिग्रस्त हो गए। संयोग से घटना के समय वाहनों में कोई भी सवार नहीं था, नहीं तो बड़ी घटना हो सकती थी। पेड़ गिरने के बाद सड़क पर आवाजाही ठप रही। सूचना पर वन विभाग की टीम ने पेड़ हटाकर आवाजाही शुरू कराई। रेंजर राजन ने बताया कि अंधड़ से पेड़ गिर गया, जिसे हटाया गया।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News:जेसीबी मशीन की चपेट में आने से छात्रा की मौत, चालक फरार

🔹बारिश जीवन अस्त व्यस्त 

वहीं गांवों में सब्जी, रसोई गैस सिलिंडर सहित अन्य दैनिक जरूरत का सामान नहीं पहुंचने से लोग खासे परेशान हैं। रविवार को भी सुबह से ही बारिश जारी रही। बीते 24 घंटों में जिला मुख्यालय में 49 एमएम बारिश रिकार्ड की गई। बारिश के बाद मलबा और बोल्डर गिरने से अल्मोड़ा को चंपावत जिले से जोड़ने वाला प्रमुख एसएच भनोली-सिमलखेत सहित पातलीबगड़-बरसीमी, चैलछीना-चुपड़ा, पिपना-महंत, जैपी-पिपली, बलमरा-गुरुलेख सड़कें बंद हैं। 

ऐसे में ग्रामीण किसी तरह बारिश के बीच पैदल आवाजाही कर बाजार पहुंच रहे हैं और तब जाकर पीठ पर ढोकर जरूरत का सामान घर पहुंच रहा है। 

जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी विनीत पाल ने बताया कि सड़कों को खोलने का काम लगातार जारी है। एसएच पर लगातार पहाड़ी दरकने से मलबा हटाना मुश्किल हो रहा है। सड़कों को जल्द खोलने के प्रयास हो रहे हैं। 

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :अगले 24 घंटे के दौरान उत्तराखंड के कई जिलों में छिटपुट बारिश का अनुमान है

🔹सड़कों पर ड्रेनेज प्लान धड़ाम, जलभराव से लोग परेशान

नगर की सड़कों पर हुए जलभराव ने सरकारी मशीनरी के खोखले दावों की पोल खोल दी है। नगर की प्रमुख माल रोड सहित अन्य सड़कों पर जलभराव हुआ है। चौघानपाटा, ब्राइट एंड कॉर्नर के पास नाली निकास न होने से सड़क तालाब में तब्दील हो गई। इससे वाहन चालकों और पैदल चलने वालों के लिए भी आवाजाही करना मुश्किल हुआ। 

🔹बाजारों में पसरा सन्नाटा

अल्मोड़ा, बारिश के बाद बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। लगातार हो रही बारिश के चलते लोगों जरूरी काम के लिए ही घर से निकल रहे है। इससे बाजार में भी कम ही लोग दिखाए दिए। नगर सहित सल्ट, रानीखेत, द्वाराहाट, भिकियासैंण, भतरौंजखान और अन्य बाजारों में व्यापारी ग्राहकों का इंतजार करते रहे।