Uttrakhand News :भारतीय थल सेना के जवान ने लद्दाख की पांच पर्वत श्रृंखलाओं पर फहराया तिरंगा

ख़बर शेयर करें -

जलालाबाद निवासी दीपक कुमार ने लद्दाख की पांच पर्वत श्रृंखलाओं पर 48 घंटे में चढ़ाई कर तिरंगा फहराया. गांव जलालाबाद पहुंचने पर उनका जोरदार स्वागत किया गया.

गांव जलालाबाद निवासी दीपक कुमार भारतीय थल सेना में हवलदार पद पर तैनात हैं. वह सेना की इंडियन आर्मी मांउटिंग टीम का हिस्सा हैं. 16 साल पहले दीपक कुमार भारतीय सेना में भर्ती हुए थे. ऊंचाई पर चढ़ने के अनुभव को देखते हुए दीपक कुमार की पोस्टिंग मांउटिंग टीम में कर दी गई. उन्होंने बताया कि दो साल तक पहाड़ों पर चढ़ने की ट्रेनिंग दी गई. वह अब तक तीन दर्जन से अधिक देश-विदेश की पर्वत श्रृंखलाओं पर चढ़कर तिरंगा फहरा चुके हैं. इस बार उन्होंने मात्र 48 घंटे के अंदर पांच पर्वत चोटियों पर तिरंगा फहराकर देश का नाम रोशन किया. दीपक कुमार ने बताया कि29 अगस्त को लद्दाख स्थित ग्यामा एक, दो और तीन पर्वत श्रृंखलाओं पर चढ़ने का अभियान शुरू किया. 24 घंटे के अंदर तीनों चोटियों पर चढ़कर तिरंगा फहरा दिया. 30 अगस्त को यालुंग नोंग नार्थ और यालुंग साउथ पर भी तिरंगा फहराने के साथ साथ योग भी किया.

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :लमगड़ा पुलिस ने दुष्कर्म और पोक्सो एक्ट के 01 आरोपी को 02 घण्टे के भीतर किया गिरफ्तार,नाबालिग बालिका को अभियुक्त के कब्जे से भी छुड़ाया

💠यहां पर जा चुके

1. गोचाला, सिक्किम

2. आदी कैलाश, उत्तराखंड

3. वानाटॉप, जम्मू कश्मीर

4. थलाई सागर, उत्तराखंड

5. एलब्रुश, यूरोप

6. मामूसटॉम कागरी, जम्मू कश्मीर

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :उत्तराखंड में इस महीने से 14 लाख परिवारों को मिलेगा धामी सरकार का यह बडा तोहफा,शासनादेश जारी

7. किली मंजारों, दक्षिणा अफ्रीका

8. नंदा देवी ईस्ट बेसकैंप, उत्तराखंड

9. माउंट कामेंट, उत्तराखंड

10.माउंट भानोटी, उत्तराखंड

11.माउंट दुर्गाकोट उत्तराखंड

12.थारकोट उत्तराखंड

13.सेंटपिंक, उत्तराखंड

14.माउंट मकालू, नेपाल

लद्दाख की एक चोटी पर तिरंगा फहराते दीपक कुमार.

💠सेना मेडल से सम्मानित हो चुके

दीपक कुमार को पिछले साल उनकी इन उपलब्धियों को देखते हुए सेना मेडल से भी सम्मानित किया जा चुका है. इसके अलावा 28 जून 2019 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने माउंट मकालू की चोटी को फतह करने पर टीम के सभी सदस्यों के साथ दीपक कुमार को भी सम्मानित किया था.