Uttrakhand News :यहां 9 साल के बच्चे को गुलदार ने बनाया निवाला, शव बरामद

ख़बर शेयर करें -

शौच के लिए घर से बाहर गए बच्चे को गुलदार ने निवाला बना दिया। वन विभाग की टीम ने रात जंगल में काम्बिंग कर बच्चे के शव को बरामद किया। कैंट कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक गिरीश चंद्र शर्मा ने बताया कि घटना गल्जवाड़ी मुख्य रोड से ढाई किमी अंदर गुर्जर बस्ती में हुई है।

रविवार रात करीब आठ बजे रियाशत(09) पुत्र मीर हमजा अपने डेरे से निकलकर बाहर शौच के लिए गया था। इसी दौरान घात लगाकर बैठे गुलदार ने बच्चे पर हमला कर दिया। हमले की भनक लगते ही परिजनों ने शोर मचना शुरू कर दिया।

लेकिन तब तक गुलदार बच्चे को जंगल में ले गया था। सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। जंगल में झाड़ियों के बीच बच्चे का शव बरामद हुआ। उसके गले और चेहरे पर गुलदार के पंजों के निशान पाए गए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :यहा फास्ट फूड रेस्टोरेंट में शराब बेचने/पिलाने का चल रहा था काम,पुलिस ने रेस्टोरेंट संचालक को अवैध शराब सहित किया गिरफ्तार

💠सड़क से करीब तीन किलोमीटर अंदर हुई घटना 

लोगों के अनुसार क्षेत्र में तीन-चार दिन से गुलदार की चहलकदमी है। सूचना के बाद डीएफओ मसूरी वैभव कुमार, एसडीओ डा. उदय गौड़ और रायपुर रेंजर राकेश नेगी सहित स्टॉफ मौके पर पहुंचा। गुलदार की तलाश के लिए जंगल में टीम भेजी गई है। घटना सड़क मार्ग से करीब तीन किलोमीटर अंदर की बताई जा रही है। वन विभाग के कर्मचारी पुलिस के आसपास गश्त करने में जुटे थे।

गुलदार की दहशत के बीच ये सावधानी बरतें लोग

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :एसएसपी अल्मोड़ा के कुशल नेतृत्व में नशे पर वार लगातार,यहा पुलिस ने स्पलैडर बाईक में तस्करी कर रहे 02 युवकों को कुल 7 किलो 660 ग्राम गांजे के साथ किया गिरफ्तार

आवसीय परिसरों एवं गौशालाओं के चारों ओर यथासम्भव झाड़ियों, घास को साफ करवा दें।

आवासीय परिसरों एवं गौशालाओं के चारों ओर रात्रि में रोशनी रखें

गुलदार देखे जाने की स्थिति में घबराए नहीं और अफवाहों पर ध्यान ना दें ।

पालतू पशुओं के वास-स्थल के पास सुरक्षा बाड़ लगायें।

गुलदार के घायल किये जाने पर तत्काल 108 को सूचित करें

वन क्षेत्रों व गुलदार प्रभावित क्षेत्रों में यथासंभव समूह में ही आवागमन करें।

शाम अथवा रात्रि के समय अकेले न निकलें

अपरिहार्य कारणों से घर से निकलना हो तो उचित रोशनी का प्रबंध करें तथा समूह में ही बाहर निकलें

सायं अथवा रात्रि के समय छोटे बच्चों को अकेले न छोड़े ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *