Uttrakhand News :लोकसभा चुनाव नजदीक आते ही अवैध हथियारों की तस्करी करने वाला गिरोह सक्रिय,यहा नेपाली चरस और ऑटोमैटिक मुंगेरी पिस्टल के साथ पांच तस्कर गिरफ्तार

ख़बर शेयर करें -

लोकसभा चुनाव नजदीक आते ही अवैध हथियारों की तस्करी करने वाला गिरोह सक्रिय हो गया है। एसओजी और मझोला थाने की संयुक्त टीम ने मंगलवार रात दस लाख की नेपाली चरस और ऑटोमैटिक मुंगेरी पिस्टल के साथ पांच तस्कर गिरफ्तार किए हैं।

यह गिरोह नेपाली चरस बरेली और मुंगेरी पिस्टल उत्तराखंड से लेकर आता था। पुलिस पकड़े गए आरोपियों के जरिए इस गैंग का नेटवर्क खंगालने में जुटी है।

एसएसपी हेमराज मीना ने बताया कि लोकसभा चुनाव को लेकर पुलिस अलर्ट हो गई है। संदिग्ध लोगों और वाहनों की तलाश शुरू कर दी गई है। मंगलवार रात कुछ लोगों ने गांगन वाली मैनाठेर के पास खंडहरनुमा मकान में कुछ संदिग्ध लोगों को आते जाते हुए देखा तो पुलिस को सूचना दे दी। मझोला थाने की पुलिस और एसओजी ने मकान की घेराबंदी कर पांच युवकों को पकड़ लिया। तलाशी के दौरान पकड़े गए युवकों के पास से तीन मुंगेरी पिस्टल, छह मैगजीन, दो तमंचे, कारतूस और एक किलो चरस बरामद हुई। पुलिस सभी को पकड़ कर थाने ले आई। यहां पूछताछ करने पर पकड़े गए आरोपियों ने अपने नाम अर्जुन सिंह निवासी टाह मदन थाना भगतपुर, मोइन खा उर्फ रोसी निवासी ततारपुर जामा मस्जिद अगवानपुर सिविल लाइंस, वरुण ठाकुर निवासी बैंक कॉलोनी थाना मझोला, मोहम्मद आसिफ निवासी रेती मोहल्ला अगवानपुर थाना सिविल लाइंस, उवैद मिर्जा निवासी जामा मस्जिद अगवानपुर सिविल लाइंस बताया है।

यह भी पढ़ें 👉  देश विदेश की ताजा खबरें बृहस्पतिवार 11 अप्रैल 2024

आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि वह बरेली से नेपाली चरस खरीदते हैं। वहां से चरस लगाकर मुरादाबाद और आस पड़ोस के जनपदों में सप्लाई करते हैं। इसके अलावा मुंगेरी पिस्टल उत्तराखंड से खरीद कर सप्लाई करते हैं। एसएसपी हेमराज मीना ने बताया कि आरोपियों से बरामद की गई चरस की कीमत करीब दस लाख रुपये है। इस गिरोह के नेटवर्क के बारे में जानकारी जुटाने में पुलिस टीम लगी है। जल्द ही कुछ और आरोपी गिरफ्तार किए जाएंगे। एसएसपी ने बताया कि खुलासा करने वाली मझोला थाने की पुलिस और एसओजी को 10 हजार इनाम दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :सुबह चटख धूप खिलने के बाद शाम को बदला मौसम का मिजाज, जानिए कैसा रहेगा आज का मौसम

💠35 से 50 हजार रुपये में बेचते हैं ऑटोमैटिक पिस्टल

एसपी सिटी अखिलेश भदौरिया ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ में पता चला कि अपराधी मुंगेरी पिस्टल को अधिक पसंद करते हैं। इसके लिए लोग मुंह मांगी कीमत देते हैं। आरोपी 20-25 हजार रुपये में एक पिस्टल खरीदते हैं। इसके बाद वह 35 से 50 हजार रुपये तक बेच देते हैं।

💠जेल से जमानत पर बाहर आकर शुरू कर दी तस्करी

गिरोह में शामिल अर्जुन सिंह पर हत्या, जानलेवा हमला, आर्म्स एक्ट समेत छह मुकदमे में दर्ज हैं। इसके अलावा मोइन खां उर्फ रोसी भी हत्या के मामले में जेल जा चुका है। वरुण ठाकुर को जानलेवा हमले और आर्म्स एक्ट में जेल भेजा गया था। मोहम्मद आसिफ को अपहरण, जुआ, आर्म्स एक्ट में पुलिस ने जेल भेजा था। जेल से बाहर आने के बाद आरोपी फिर से अवैध हथियार और चरस की तस्करी करने लगे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *