Uttarakhand News:एसटीएफ को मिली बड़ी सफलता, बाघ की खाल और हड्डियों के साथ पिता-पुत्र सहित तीन तस्करों को दबोचा

ख़बर शेयर करें -

स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) और वन विभाग ने बाजपुर में ट्रक से बाघ की खाल और हड्डी की तस्करी कर रहे वन्यजीव तस्कर अर्जुन उर्फ कौवा गैंग के पिता-पुत्र समेत तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है।

🔹जाने मामला

एसएसपी एसटीएफ आयुष अग्रवाल ने बताया कि तस्कर बाघ की खाल काशीपुर से रुद्रपुर में बेचने के लिए ला रहे थे।पकड़े गए तस्कर कुलविंदर सिंह उसका पुत्र शमशेर सिंह और तीसरा जोगा सिंह है। तीनों शिव कालोनी सरवरखेड़ा जसपुर के निवासी हैं। इनके पास से दो बाघ की खाल और 35 किलो हड्डी बरामद हुई है।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :अदबोड़ा गांव में डायरिया फैलने से 50 से अधिक लोग उल्टी, दस्त होने से पड़े बीमार

वन विभाग ने तीनों पर एफआइआर दर्ज कर जेल भेज दिया। पूछताछ में सामने आए कुछ अन्य तस्करों की तलाश शुरू कर दी है।

🔹सही साबित हुई आशंका, बाघों पर खतरा बरकरार?

वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो (दिल्ली) वन विभाग के अधिकारियों के पास 30 जून को मेल के माध्यम से आशंका और अलर्ट से भरा पत्र पहुंचा था। मामला बाघों की सुरक्षा से जुड़ा था। आशंका शिकारियों की सक्रियता को लेकर थी।

🔹उत्तराखंड में 560 बाघो की संख्या 

यह भी पढ़ें 👉  देश विदेश की ताजा खबरें शनिवार 8 जून 2024

जुलाई से अब तक ऊधम सिंह नगर में बाघ तस्करी से जुड़े दस लोगों के एसटीएफ और वन विभाग के हत्थे चढ़ने से आशंका सच साबित हो रही है। ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा है कि बाघों की संख्या को लेकर देश में तीसरे नंबर के राज्य उत्तराखंड में इन पर खतरा तो नहीं मंडरा रहा।हालांकि, बाघों को किस डिवीजन में मारा गया था, इसे लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है। उत्तराखंड में 560 बाघ हैं। पहले नंबर पर मध्य प्रदेश और दूसरे पर कर्नाटक है।