National News :क्रिप्टो करेंसी एप के माध्यम से ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार, कई लोगों के आधार कार्ड व पेन कार्ड भी ठगी के लिए किए उपयोग

ख़बर शेयर करें -

क्रिप्टो करेंसी एप के माध्यम से उज्जैन के फाइनेंशियल एडवाइजर से दो लाख रुपये की ठगी करने के आरोपित शाहबाज को राज्य साइबर सेल ने गिरफ्तार किया है। मामले में पुलिस जुलाई में दो चचेरे भाइयों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

आरोपितों ने खरीदार से ही आर्डर निरस्त करवा लिया और उसके रुपये वापस नहीं किए थे। बाइनेंस एप के लूपहोल का उपयोग कर वारदात को अंजाम दिया था। आरोपितों के कब्जे से कई लोगों के आधार व पेन कार्ड मिले हैं।

💠पुलिस ने बताया कि गौरव लालवानी निवासी सी 21 माल, रेसिडशियल काम्पलेक्स फाइनेंशियल एडवाइजर है।

लालवानी ने राज्य साइबर सेल से मार्च में शिकायत की थी कि वह बाइनेंस एप पर दो लाख रुपये के क्रिप्टो करंसी यूएसडीटी क्वाइन खरीद रहा था। बाइनेंस एप पर आर्डर करने पर उसे एक विक्रेता मिला था, जिसने उसे अपना अकाउंट नंबर दिया था। लालवानी ने अकांउट में दो लाख रुपये ट्रांसफर करवा दिए थे।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :नगर पालिका अल्मोड़ा स्थित जन सुविधा केंद्रअभी भीं पुराने सिस्टम पर ही चल रहे है सभी कार्य,नागरिकों को हो रही असुविधा को सामाजिक कार्यकर्ताओं ने दूर करने की मांग

राशि ट्रांसफर करने के बाद लालवानी से एक संबंधित व्यक्ति ने फोन कर कहा कि जो क्रिप्टो करंसी आपको बेचना थी, वह ब्लाक हो गई है। आप अपना आर्डर निरस्त कर दीजिए, मैं आपके दो लाख रुपये वापस कर रहा हूं। लालवानी ने अपना आर्डर निरस्त कर दिया। इसके बाद न तो उसके पास दो लाख रुपये वापस आए और न ही क्रिप्टो करंसी मिली। इस पर पुलिस को शिकायत की गई थी।

💠कई शहरों फरारी काटी

राज्य साइबर सेल ने केस दर्ज कर 23 वर्षीय जय पुत्र जितेंद्र पोपट निवासी नाहरपारा, रायपुर छत्तीसगढ़ व यश पुत्र राजेश पोपट निवासी सिविल लाइन, मनेन्द्रगढ़ जिला एमसीबी छत्तीसगढ़ को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। मामले में शाहबाज पुत्र जाकिर हुसैन निवासी नाहरपारा, रायपुर छत्तीसगढ़ फरार चल रहा था। पुलिस कई बार उसकी तलाश में छापे मार चुकी थी। आरोपित ने भोपाल, इंदौर, जबलपुर, अनूपपूर व अन्य जगहों पर फरारी काटी थी।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :अग्निशमन केंद्र अल्मोड़ा द्वारा की गई कार्यवाही जंगल की आग को फायर सर्विस द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए बुझाया गया

💠युवक ने कई लोगों के आधार कार्ड व पेन कार्ड भी ठगी के लिए उपयोग किए.

आरोपित ने बताया कि महंगे शौक पूरे करने के लिए व आसान तरीके से रुपये कमाने के लिए गिरोह में शामिल हुआ था। आरोपित अपने आधार कार्ड पेन कार्ड, वन टाइम पासवर्ड का उपयोग कर बायनेंस अकाउंट बनाकर गिरोह के अन्य सदस्य को देता था, जिससे वो ठगी करते थे। इसके बाद उसे रुपये मिलते थे। युवक ने कई लोगों के आधार कार्ड व पेन कार्ड भी ठगी के लिए उपयोग किए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *