Nainital News:यहां 38 छात्रों के साथ बड़ा खेल,पैरा-मेडिकल कॉलेज ने थमाईं फर्जी मार्कशीट

ख़बर शेयर करें -

काठगोदाम स्थित एक संस्थान में 38 छात्र-छात्राओं ने पैरामेडिकल का कोर्स किया। जब एक छात्र ने नौकरी के लिए सरकारी मेडिकल कॉलेज में आवेदन किया तो पता चला कि संस्थान फर्जी है।

🔹जाने मामला 

पुलिस के अनुसार बड़ी मुखानी निवासी हिमांशु नेगी ने दो साल पहले काठगोदाम स्थित पैरामेडिकल के शैक्षणिक इंस्टीट्यूट में दाखिला लिया था। प्रबंधकों ने दावा किया था कि यह संस्थान दिल्ली पैरामेडिकल मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट (डीपीएमआई) की शाखा है। दो साल के कोर्स के एक लाख रुपये लिए गए। संस्थान में हिमांशु के साथ कुल 38 बच्चों ने दाखिला लिया। 

यह भी पढ़ें 👉  UttarPradesh News :यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के परिजनों को अपशब्द कहना और जान से मारने की धमकी देना कांग्रेसी नेता को पडा भारी,आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

🔹संस्थान की कोई शाखा है ही नहीं 

कोर्स के बाद मार्कशीट, डिप्लोमा और पैरामेडिकल का सर्टिफिकेट भी दिया गया। बच्चे अलग-अलग जगहों पर प्राइवेट नौकरी करने लगे। बाद में उस बैच के एक छात्र ने अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज में नौकरी के लिए आवेदन किया तो पता चला कि संस्थान से मिला डिप्लोमा सही नहीं है। जांच करने पर पता चला कि डीपीएमआई की कोई शाखा काठगोदाम में नहीं है। 

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :एसओजी व सोमेश्वर पुलिस की संयुक्त टीम को मिली बड़ी कामयाबी,बस से 380 टिन अवैध लीसा बरामद 01 तस्कर गिरफ्तार

🔹मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू

आरोप है कि इस संबंध में जब इंस्टीट्यूट के एमडी डॉ. प्रकाश मेहरा से बात की तो उन्होंने बताया कि रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया अभी चल रही है। आरोप है कि प्रकाश मेहरा के अलावा डॉ. पल्लवी मेहरा और तनुजा गंगोला ने सभी छात्र-छात्राओं के साथ धोखाधड़ी की है। पुलिस ने तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।