Landslide Update:हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में नहीं थम रहा बारिश का कहर,हिमाचल को अब तक 7000 करोड़ से ज्यादा का नुकसान

ख़बर शेयर करें -

भारी बारिश के कारण भूस्खलन की घटनाएं बढ़ गई हैं, जिस कारण बड़े हादसे हो रहे हैं। राज्य में बारिश के कारण हुई अलग-अगल घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़कर 60 हो गई है।हिमांचल के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा है कि मृतकों का आंकड़ा और भी ज्यादा बढ़ सकता है। 

🔹दोनों राज्यों में भारी बारिश के पीछे दो तंत्र काम कर रहे

कुछ ऐसा ही हाल उत्तराखंड का भी है। यहां भी जमकर बारिश हो रही है, जिससे भूस्खलन का खतरा मंडाने लगा है। यहां चमोली के जोशीमठ में भी बड़ा हादसा हो गया। एक क्रेशन प्लांट के पास मकान भरभराकर गिर गया, जिसमें 7 मजदूर दब गए। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भारी बारिश के पीछे दो तंत्र काम कर रहे हैं। 

🔹इस कारण हो रही बारिश

मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक, पहला कारण पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। दूसरा मानसून की ट्रफ की लोकेशन हिमालय की तलहटी में है और दक्षिणी-पश्चिमी अरब सागर की मानूसनी हवाएं हिमालय की तलहटी से टकरा रही हैं। इन्हीं दोनों कारणों से हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भारी बारिश हो रही है। IMD के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश के कारण बनने वाली मानसून की ट्रफ दक्षिण की ओर बढ़ रही है। 

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :रानीधारा क्षेत्र की छः सूत्रीय माँगों का शीघ्र निदान नहीं होने पर क्षेत्र की जनता ने निकाय चुनाव बहिष्कार की धमकी के साथ बड़े जनांदोलन की दी चेतावनी

फिलहाल नहीं मिलने वाली है राहत

🔹मौसम विभाग ने बताया है कि हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में अगले 4 से 5 दिनों के दौरान भारी बारिश जारी रहने की आशंका है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि ट्रफ रेखा 20 अगस्त के आसपास फिर से उत्तर की ओर बढ़ेगी, इसके बाद हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में फिर से भारी बारिश हो सकती है। हिमाचल में आने वाले 48 घंटों में राज्य में कई स्थानों पर बारिश होने की संभावना है। कांगड़ा, मंडी और शिमला के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है और अन्य ज़िलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। कल बिलासपुर, शिमला, सोलन, सिरमौर, मंडी, कांगड़ा और चंबा के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने उत्तराखंड के छह जिलों-देहरादून, टिहरी, पौड़ी, उधमसिंह नगर, नैनीताल और चंपावत हरिद्वार में ऑरेंज अलर्ट जारी करते हुए भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी की है ।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :गोल्फ ग्राउंड के पास जंगल में लगी आग को फायर स्टेशन रानीखेत ने त्वरित कार्यवाही करते हुए बुझाया

🔹हिमाचल प्रदेश में 7 हजार करोड़ से ज्यादा का नुकसान

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश के कारण राज्य में 12 में से 11 जिलों में 857 सड़कों पर यातायात अवरुद्ध है। 4,285 ट्रांसफार्मर और 889 जल आपूर्ति योजनाएं बाधित हैं। राज्य आपात अभियान केंद्र के अनुसार, 22 जून से 14 अगस्त तक मानसून के दौरान हिमाचल प्रदेश को 7,171 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। राज्य में बादल फटने तथा भूस्खलन की कुल 170 घटनाएं हुई हैं और करीब 9,600 मकान आंशिक या पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं।