Almora News:अग्निवीर भर्ती के फर्जीवाड़ा में अब लगेगी रोक, बायोमेट्रिक हाजिरी के आधार पर होगा सत्यापन

ख़बर शेयर करें -

मंगलवार यानि आज से अग्निवीर भर्ती प्रक्रिया शुरू होने जा रही है।अग्निवीर भर्ती में फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद भर्ती कार्यालय सजग हो गया है। अब फर्जीवाड़ा रोकने के लिए अग्निवीर भर्ती प्रक्रिया में बदलाव होगा।खासियत यह होगी कि अब भर्ती में शामिल युवाओं का आईरिस स्कैन के रूप में बायोमैट्रिक सत्यापन किया जाएगा। 

अल्मोड़ा भर्ती कार्यालय के निदेशक कर्नल एके मिश्रा ने बताया कि अग्निवीर भर्ती के लिए पंजीकरण 13 फरवरी से शुरू होगा। 

अग्निवीर योजना के तहत भर्ती महिला सैन्य पुलिस, हवलदार सर्वेयर ऑटो कार्टोग्राफर, सिपाही फार्मा, नर्सिंग असिस्टेंट और नर्सिंग असिस्टेंट (पशु चिकित्सा) पदों के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू होगी। युवाओं को https:www.joinindianarmy.nic.inBravoApplicantEligibility.htm के माध्यम से पंजीकरण करना आवश्यक है। इस बार भर्ती के लिए नियमों में कुछ बदलाव किए गए हैं। सशस्त्र सेनाओं में चुनौतीपूर्ण माहौल के अनुकूल ढलने और उम्मीदवारों की उपयुक्तता का पता लगाने के लिए मेडिकल से पहले एक नई अनुकूलन क्षमता परीक्षा आयोजित होगी। इस परीक्षा में सफल युवाओं को ही आगे बढ़ने का मौका मिलेगा। भर्ती में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए इस बार अभ्यर्थियों को आईरिस स्कैन के रूप में एक नई बायोमेट्रिक सत्यापन प्रक्रिया से गुजरना होगा। उन्होंने कहा कि यह प्रक्रिया पहली बार अपनाई जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :4 मार्च को टनकपुर में होगी गुरिल्ला संगठन की विशाल रैली

🔹कार्यालय सहायक के लिए होगा नया टाइपिंग टेस्ट

भर्ती निदेशक कर्नल मिश्रा ने बताया अग्निवीर (कार्यालय सहायक) के लिए इस बार एक नया टाइपिंग टेस्ट आयोजित होगा। इसे कंबाइन एंट्रेंस परीक्षा के साथ आयोजित किया जाएगा। अप्रैल 2024 के आखिरी हफ्ते से इसके आयोजन की संभावना है। 

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :26 फरवरी से शुरू होगा और 1 मार्च तक चलेगा उत्तराखंड विधानसभा का बजट सत्र

🔹युवाओं को आधार से जुड़े मोबाइल नंबर के साथ कराना होगा पंजीकरण

भर्ती निदेशक कर्नल मिश्रा ने बताया कि युवाओं को केवल अपने आधार से जुड़े मोबाइल नंबरों के साथ पंजीकरण करना चाहिए। ऐसा इसलिए कि भर्ती रैली के संचालन के दौरान आधार सत्यापन किया जाएगा। बड़ी संख्या में उम्मीदवार साइबर कैफे के माध्यम से नामांकन करते हैं और बाद में पंजीकरण के लिए उपयोग की गई ईमेल आईडी को भूल जाते हैं जो भर्ती प्रक्रिया के लिए बेहद जरूरी है।

कहा कि ऐसे में युवा को पंजीकरण के लिए साइबर कैफे पर निर्भर नहीं होना होगा। उन्होंने युवाओं को दलालों और कोचिंग सेंटरों के प्रति भी सतर्क रहने की अपील की है जो उन्हें भर्ती में सफल बनाने का दावा करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *