Almora News:जिले भर में पशुधन को समर्पित खतड़वा त्यौहार परम्परागत रूप से मनाया गया

ख़बर शेयर करें -

जिले के विभिन्न स्थानों में रविवार को खतड़वा पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। लोगों ने पशुओं के रोग मुक्त होने की कामना की। बच्चों ने प्रमुखता से इसमें भाग लिया। साथ ही ककड़ी आदि का प्रसाद वितरण किया गया।

🔹शरद ऋतु का प्रारंभ

उत्तराखंड में ऋतु परिवर्तन पर कोई न कोई त्यौहार मनाया जाता है। उन्हीं में से एक खतड़वा त्यौहार है। पशुधन को समर्पित खतड़वा त्यौहार उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में मनाया जाता है। वर्षा ऋतु के समाप्त होने और शरद ऋतु के प्रारंभ में अश्विन माह के प्रथम दिन (कन्या संक्रांति) को खतड़वा मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :उत्तराखंड में निर्मित 12 दवाओं के सैंपल जांच में हुए फेल,सीडीएसओ ने इसे लेकर ड्रग अलर्ट किया जारी

🔹ताकुला बाजार में मेले खतडुवा मेले का आयोजन 

इस दौरान बच्चों ने लोकगीत सुनाकर खतड़वे की राख को पशुओं के माथे पर लगाई। ऐसी मान्यता है कि पर्व के बाद ठंड का मौसम शुरू हो जाता है। गांवों में कई जगह घास-फूस पिरुल और लकड़ियों को एक साथ बांधकर आग लगाई। जबकि ताकुला बाजार में मेले खतडुवा मेले का आयोजन हुआ। जिसमें दूर-दराज से पहुंचे लोगों ने जमकर खरीदारी की।