Almora News :चंद्रयान 3 मिशन में शामिल है अल्मोड़ा जिले के राजेंद्र सिंह सिजवाली

ख़बर शेयर करें -

बुधवार से ही पूरा देश चंद्रयान-3 की चंद्रमा पर सफल लैंडिंग का जश्न मना रहा है।इसरो की इस सफलता के दुनियां भर में चर्चे हो रहे हैं। भारत वो चौथा देश बन गया है, जो चांद पहुंचा है। इस उपलब्धि का श्रेय इसरो के उन वैज्ञानिकों को जाता है, जिन्होंने मिशन मून के लिए दिन रात मेहनत की है। इसरो के चंद्रयान-3 की टीम में उत्तराखंड का लाल भी शामिल है।

💠अल्मोड़ा जिले से है राजेंद्र 

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :सहकारी समितियां की प्रबंध समिति में महिलाओं के लिए 33% आरक्षण देने वाला देश का पहला राज्य बना उत्तराखण्ड

इसरो की इस महत्वाकांक्षी योजना में उत्तराखंड के राजेंद्र सिंह सिजवाली भी शामिल है। राजेंद्र अल्मोड़ा जिले के ग्राम पुनाली ब्लॉक धौला देवी के रहने वाले हैं। राजेंद्र ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा राजकीय इंटर कॉलेज देवनाथन और अल्मोड़ा इंटर कॉलेज से प्राप्त की है।

💠चंद्रयान-3 के विक्रम लैंडर के लिए प्रोजेक्ट मैनेजर के पद पर है राजेंद्र

राजेंद्र ने अपने इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई कुमाऊँ इंजीनियरिंग कॉलेज जो वर्तमान में विपिन त्रिपाठी कुमाऊँ इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी द्वाराहाट से पूरी की है। 

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :उत्तराखंड की मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने स्वास्थ्य विभाग के मुख्य चिकित्साधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक, दिए यह निर्देश

💠2005 में इसरो में सिलेक्शन हुआ और अंतरिक्ष उपयोग केंद्र अहमदाबाद में कार्यरत है। अभी तक उन्होंने अनेक इसरो के प्रोजेक्ट में काम किया है।

💠चंद्रयान-3 के प्रोजेक्ट मैनेजर के पद पर रहते हुए अपने केंद्र के महत्वपूर्ण सेंसर के लिए उन्होंने पावर सिस्टम को विकसित करने में प्रमुख योगदान दिया है। 

💠उनके बड़े भाई डॉक्टर पूरन सिंह सिजवाली हैदराबाद में वरिष्ठ वैज्ञानिक के रूप में मलेरिया पर रिसर्च कर रहे हैं.