Almora News : ढौन और रीठाचौरा सड़क का हाल बेहाल,आक्रोशित गांव वालों ने आंदोलन की दी चेतावनी

ख़बर शेयर करें -

ढौन और रीठाचौरा की सड़क का निर्माण अभी तक नहीं हो पाया है।दैवी आपदा में सवा तीन साल पहले ध्वस्त हुई ग्राम पंचायत सड़क नहीं सुधर सकी है। कीचड़ से लबालब होने के कारण आजकल यह पैदल चलने लायक भी नहीं बची है।इससे परेशान लोगों ने बुधवार को बैठक कर आंदोलन की चेतावनी दी। कहा कि सड़क के सुधारीकरण की घोषणा सीएम कर चुके हैं। इसके बावजूद लोनिवि के अधिकारियों ने सड़क नहीं सुधारी।

🔹तीन माह बाद भी सड़क नहीं सुधारी

क्षेत्र में जून 2000 में आई दैवी आपदा के दौरान ग्राम पंचायत ढौन और रीठाचौरा को बनी सड़क ढौन से करीब एक किमी पहले पूरी तरह से ध्वस्त हो गई थी। इससे ढौन, रीठाचौरा, सगन्यांणी, तलाई, बाड़ीगाड़ आदि गांवों के करीब एक हजार ग्रामीण परेशान हैं। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मई में मासी में हुई जनसभा में इसे सुधारने की घोषणा भी की लेकिन तीन माह बाद भी सड़क नहीं सुधारी जा सकी।

यह भी पढ़ें 👉  Weather Update :उत्तराखंड में पल-पल बदल रहा है मौसम,मौसम विभाग ने 16 जुलाई तक भारी बारिश का येलो अलर्ट किया जारी

🔹न डामरीकरण हुआ, न मरम्मत

लोनिवि ने वर्ष 2015 में रामनगर-चौखुटिया मोटर मार्ग से ढौन और रीठाचौरा गांव तक कच्ची सड़क बनाई थी लेकिन इस सड़क पर सोलिंग और डामरीकरण तक नहीं हो सका। देखरेख के अभाव में वर्ष 2000 में सड़क ध्वस्त होने से आवागमन पूरी तरह से बंद हो गया। लोग भटकोट गधेरे के वैकल्पिक मार्ग से आवागमन करते हैं लेकिन आजकल बाढ़ आने के कारण परेशानी बढ़ गई है। ग्रामीणों ने गांव के तलाई तोक को भी सड़क से जोड़ने की मांग की है। 

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :उत्तराखंड लोक सेवा आयोग पीसीएस 2024 की परीक्षा 14 जुलाई को दो सत्रों में किया जाएगा

🔹यह लोग रहे मौजूद 

इसी से गुस्साए दोनों ग्राम पंचायतों के लोगों ने भूमियां मंदिर परिसर में बैठक की। लोगों ने सड़क सुधारने के लिए आंदोलन की चेतावनी। बैठक में उमराव सिंह, सदानंद पांडे, राधा देवी, पुष्पा देवी, जगदीश बिष्ट, दीपू बिष्ट, राजेंद्र कुमयां, इंद्रमणि, किशोर पांडे आदि थे।