Almora News :गर्मी बढ़ते ही जिले में बढ़ने लगा डायरिया का प्रकोप,नगर के बख गांव में फैला डायरिया

ख़बर शेयर करें -

अल्मोड़ा। गर्मी बढ़ते ही जिले में डायरिया का प्रकोप बढ़ने लगा है। नगर के नजदीक बख गांव में डायरिया फैल गया। दो बच्चों सहित 18 ग्रामीणों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। सूचना के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव पहुंचकर लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया।

दूषित पानी डायरिया का कारण बताया जा रहा है। ग्रामीणों ने जल संस्थान से पानी की जांच की मांग की है।

बख गांव में अचानक ग्रामीण और बच्चे उल्टी-दस्त से जूझने लगे, इससे गांव में अफरातफरी फैल गई। पेट दर्द, उल्टी और दस्त से जूझ रहे दो बच्चों सहित 18 ग्रामीणों को रविवार जिला अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। सोमवार को दूसरे दिन उन्हें छुट्टी दे दी गई। चिकित्सकों ने बताया कि दूषित पानी इसका कारण रहा है। सूचना के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव पहुंचकर पीड़ितों के साथ ही अन्य ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। ग्रामीणों को डायरिया से बचाव के तरीके बताते हुए दवा बांटी गई।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :उत्तराखंड लोक सेवा आयोग पीसीएस 2024 की परीक्षा 14 जुलाई को दो सत्रों में किया जाएगा

वहीं, प्रधान देवेंद्र बिष्ट ने कहा कि सिकुड़ा बैंड से बनी पेयजल योजना से गांव में जलापूर्ति होती है। बताया कि गर्मी बढ़ने के साथ यह पानी दूषित हो गया है, इससे ग्रामीण डायरिया की जकड़ में आ गए। कहा जल संस्थान से पानी की जांच के लिए कहा गया है। जांच होने तक सभी ग्रामीणों से पानी उबालकर पीने की बात कही गई है।

जिला अस्पताल में हर रोज डायरिया के 50 से अधिक मरीज आ रहे

अल्मोड़ा। जिले में नगर से लेकर गांवों तक लोग डायरिया से जूझ रहे हैं। जिला अस्पताल के पीएमएस डॉ. एचसी गड़कोटी ने बताया कि बीते एक सप्ताह से इस बीमारी से जूझते हुए 40 से 50 मरीज हर रोज उपचार के लिए अस्पताल पहुंच रहे हैं। एक सप्ताह में 21 लोगों के साथ ही 15 बच्चों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। छह पर्यटकों को भी अस्पताल में भर्ती कर उपचार किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :पूर्व दर्जा मंत्री बिट्टू कर्नाटक के चक्काजाम की चेतावनी का असर,तीन घंटों से पूर्व ही हुआ सड़क का गड्ढा भरने का काम

कारण

दूषित पानी का उपयोग, दूषित खाद्य सामग्री, संक्रमण।

लक्षण

उल्टी, दस्त के साथ तेज बुखार, पेट दर्द, भूख न लगना, पेट फूलना।

इलाज

शुद्ध और उबले पानी का प्रयोग, शुद्ध भोजन, लक्षण दिखते ही चिकित्सक की सलाह जरूरी।

बख गांव में डायरिया फैलने की सूचना पर चिकित्सकों की टीम को भेजा गया। सभी पीड़ित स्वस्थ हैं। विभाग लगातार नजर बनाए है। -डॉ. आरसी पंत, सीएमओ, अल्मोड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *