Uttarkashi News:पर्यटकों और पर्वतारोहियों के लिए खुशखबरी,ट्रैकिंग रूटों और उच्च हिमालयी इलाकों में पर्वतारोहण पर लगी रोक हटाई

ख़बर शेयर करें -

जिले में मॉनसून अवधि के लिए ट्रैकिंग और पर्वतारोहण गतिविधियों पर जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकारण की ओर से लागू की गई रोक हटा दी गई है. जिसके तहत जिलाधिकारी की ओर से वन विभाग के सभी प्रभागीय वनाधिकारियों और नेशनल पार्क के उपनिदेशकों को ट्रैकिंग पर रोक हटाने के आदेश दिए गए हैं। जिस पर ट्रैकिंग और पर्वतारोहण से जुड़े व्यापारियों ने खुशी जाहिर की है. जिससे अब एक बार फिर ट्रैकिंग के लिए आवाजाही शुरू होगी।

🔹13 जुलाई को उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पर्वतारोहण पर लगी थी रोक जिला आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से 13 जुलाई को मॉनसून में अतिवृष्टि सहित भूस्खलन और खराब मौसम से ट्रैकिंग रुटों सहित उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पर्वतारोहण पर रोक लगा दी गई थी. जिसके बाद मॉनसून के अंतिम चरण में जनपद के ट्रैकिंग और पर्वतारोहण से जुड़े एसोसिएशन और व्यापारियों ने इस संबध में जिला प्रशासन से रोक हटाने की मांग की थी।ट्रैकिंग व्यापारियों की मांग पर जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अध्यक्ष डीएम अभिषेक रुहेला ने सभी ट्रैकिंग रुटों और उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पर्वतारोहण पर लगी रोक हटाने के आदेश जारी कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :रूट प्लान देखकर निकलें श्रद्धालु,भारी वाहनों का आवागमन पूर्ण रूप से रहेगा बंद,पर्वतीय जिलों का यह रहेगा रूट

🔹व्यापारियों को नुकसान की भरपाई होने की उम्मीद

गढ़वाल हिमालयन ट्रैकिंग एंड माउंटेनियरिंग एसोसिएशन के सचिव मनोज रावत ने बताया कि इस वर्ष जून से ही अतिवृष्टि के कारण कई बार जिला प्रशासन ने बीच-बीच में ट्रैकिंग और पर्वतारोहण पर रोक लगाई थी। उसके बाद जुलाई से पूरी तरह रोक लगा दी गई थी। जिससे ट्रैकिंग और पर्वतारोहण से जुड़े व्यापारियों को नुकसान उठाना पड़ा था। यहां के सभी ग्रुप ने अन्य प्रदेशों की ओर रूख किया था, लेकिन अब उम्मीद है कि सितंबर और अक्टूबर में इस नुकसान की भरपाई हो सकेगी।

यह भी पढ़ें 👉  Big Breaking News :स्लग- बिन्सर वन्य जीव विहार में वनाग्नि की घटना में लापरवाह अफसरों पर गिरी गाज - सीएम ने दिए निलंबित करने के आदेश

🔹पर्वतारोही पर्वतारोहण के लिए कर सकते हैंं आवेदन

गंगोत्री नेशनल पार्क के उपनिदेशक आरएन पांडेय ने कहा कि जिलाधिकारी की ओर से ट्रैकिंग और पर्वतारोहण पर रोक हटा दी गई है।अब पर्वतारोही गंगोत्री नेशनल पार्क में पर्वतारोहण के लिए आवेदन कर सकते हैं, क्योंकि जनपद में सबसे अधिक पर्वतारोहण गंगोत्री ग्लेशियर की चोटियों में होता है. जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी आदेशानुसार जिले में पर्वतारोहण और उच्च हिमालयी क्षेत्रों में विभिन्न ट्रैक मार्गों व मौसम की स्थिति के अनुसार आवश्यक सुरक्षा संबंधी शर्तों के साथ प्रशिक्षित संगठित व पंजीकृत ट्रैकिंग दलों को संबंधित प्रभागीय वनाधिकारी व उप निदेशक गंगोत्री राष्ट्रीय पार्क द्वारा अनुमति दी जाएगी।