National News :तीन दिन उड़ान नहीं भरेंगे 80 विमान,जी 20 के दौरान दिल्ली एयरपोर्ट से आने-जाने वाली फ्लाइट्स कैंसिल

ख़बर शेयर करें -

जी-20 सम्मेलन के दौरान तीन दिनों के लिए दिल्ली एयरपोर्ट से आने-जाने वाली कई उड़ानों को विमान कंपनियों ने रद्द कर दिया। तीन दिन के लिए 80 विमान दिल्ली एयरपोर्ट से न उड़ान भरेंगे और न ही वापस आएंगे।

एयरपोर्ट का संचालन करने वाली कंपनी डायल का कहना है कि यात्रियों की कमी और उस दिन ट्रैफिक पुलिस के इंतजामों को ध्यान में रखते हुए यात्राओं को रद्द करने के लिए आवेदन किया है। इनमें से अधिकांश यात्राएं ऐसी जगहों पर हैं, जहां कम यात्री सफर करते हैं। व्यस्त रूटों पर कोई विमान यात्रा रद्द नहीं की जा रही है।

💠डायल प्रवक्ता के अनुसार भारत में जी-20 सम्मेलन के आयोजन के दौरान कुछ विमान कंपनियों ने तीन दिन के लिए कुछ यात्राएं रद्द करने के लिए आवेदन दिया है।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गड़बड़ी की शिकायत पर लिया एक्शन,रविवार की छुट्टी के बावजूद सचिवालय खुलवाकर निकाले आदेश

💠यात्रा रद्द करने की मांग

दिल्ली एयरपोर्ट पर अभी तक आने-जाने वाली कुल 160 यात्राओं को रद्द करने की मांग हुई है। दिल्ली एयरपोर्ट से होने वाली उड़ान का यह महज 6 फीसदी है। सूत्रों का कहना है कि अभी तक विदेशी मेहमानों के 50 विमान की पार्किंग के लिए एयरपोर्ट पर जगह मांगी गई थी। इनमें से लगभग 20 विमान एयरफोर्स पालम स्टेशन, 20 विमान टर्मिनल-1, 3 विमान कार्गों एवं अन्य विमान को टी-3 पर खड़ा करने का निर्णय लिया गया है।

💠विमानों के लिए पर्याप्त जगह : डायल

वहीं,दिल्ली हवाई अड्डा का संचालन करने वाली कंपनी डायल ने शनिवार को कहा कि जी-20 शिखर सम्मेलन के मद्देनजर उसे एयरलाइंस से आठ सितंबर से 10 सितंबर तक कई उड़ानों को रद्द करने के आवेदन मिले हैं। इनमें 80 प्रस्थान वाली उड़ानें और इतनी ही संख्या में आगमन वाली उड़ानें शामिल हैं। हवाई अड्डा पर सम्मेलन के दौरान पर्याप्त पार्किंग स्थल रहेगा।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :कांग्रेस कार्यालय में महिला कांग्रेस द्वारा खूब धूमधाम से मनाया गया माननीय सांसद श्री राहुल गांधी जी की 54 वी वर्षगांठ

उड़ानों को रद्द करने की वर्तमान खबरों का विमान की पार्किंग से कोई संबंध नहीं है। हमने पहले ही आवश्यक पार्किंग उपलब्ध करा दी है। इससे पहले खबर आई थी कि जी-20 सम्मेलन के कारण यातायात प्रतिबंधों के मद्देनजर एयरलाइंस उड़ानें रद्द कर रही हैं। इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से प्रतिदिन लगभग दो लाख यात्री आवागमन करते हैं।