Uttarakhand News:राफ्टिंग का शौक रखने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, गंगा में आज से शुरू होगी राफ्टिंग,जानें क्या है शेड्यूल

ख़बर शेयर करें -

गंगा के विश्व प्रसिद्ध कौडियाला मुनिकीरेती इको टूरिज्म जोन में आज से राफ्टिंग की गतिविधि शुरू होने जा रही है।पहले चरण में मरीन ड्राइव से शिवपुरी तथा क्लब हाउस से मुनिकिरेती तक राफ्टिंग संचालन की अनुमति दी गई है।

🔹जुलाई व अगस्त माह में बंद थी राफ्टिंग

गंगा में मानसून काल में होने वाली जल वृद्धि को देखते हुए सुरक्षा की दृष्टि से जुलाई व अगस्त माह में राफ्टिंग को बंद रखा जाता है। एक सितंबर से राफ्टिंग सत्र आरंभ होता है। मगर, इस वर्ष गंगा में जलस्तर अधिक होने के कारण एक सितंबर से राफ्टिंग की गतिविधि आरंभ नहीं हो पाई। गंगा नदी राफ्टिंग प्रबंधन समिति से जुड़ी तकनीकी टीम ने बीते शुक्रवार को गंगा में उतरकर राफ्टिंग की संभावनाओं का आकलन किया।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :जिले में अनवरत बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त,2 राज्य राजमार्ग और 17 ग्रामीण सड़के हो चुकी हैं बंद

🔹राफ्टिंग के अनुकूल पाया गया जलस्तर

तकनीकी टीम ने पाया कि गंगा में जलस्तर अब काफी हद तक राफ्टिंग के अनुकूल हो गया है। जिसके बाद पहले चरण में मरीन ड्राइव से शिवपुरी तथा क्लब हाउस (ब्रह्मपुरी) से खारास्रोत (मुनिकिरेती) तक राफ्टिंग की गतिविधि शुरू कराने का निर्णय लिया गया। शिवपुरी से क्लब हाउस तथा मुनिकिरेती के बीच फिलहाल राफ्टिंग बंद रहेगी।शनिवार को राफ्टिंग व्यवसायि गंगा की पूजा अर्चना कर सांकेतिक तौर पर राफ्टिंग शुरू करेंगे। जबकि रविवार से पर्यटक भी यहां राफ्टिंग का लुत्फ उठा पाएंगे।

यह भी पढ़ें 👉  UttarPradesh News :यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के परिजनों को अपशब्द कहना और जान से मारने की धमकी देना कांग्रेसी नेता को पडा भारी,आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

🔹पर्यटकों को लंबे समय से था राफ्टिंग खुलने का इंतजार

राफ्टिंग व्यवसायिक दीपक बडोनी ने बताया कि राफ्टिंग को लेकर पर्यटक लंबे समय से पूछताछ कर रहे हैं। मगर, राफ्टिंग बंद होने के कारण पर्यटकों को खाली हाथ लौटना पड़ रहा था। अब पर्यटक एक बार फिर से गंगा में राफ्टिंग का लोटपोट उठा पाएंगे।

🔹एक बार फिर तकनीकी समिति जांच करेगी

जिला साहसिक पर्यटन अधिकारी केएस नेगी ने बताया कि अभी सिर्फ क्लब हाउस तथा मरीन ड्राइव से राफ्टिंग खोली जा रही है। शिवपुरी से राफ्टिंग खोलने को लेकर एक बार फिर तकनीकी समिति जांच करेगी।