Almora News:सरकारी सस्ता गल्ला विक्रेताओं का धरना जारी,यथा समय न मानी गई मांगें तो करेंगे आंदोलन तेज

ख़बर शेयर करें -

अवशेष बिल का भुगतान न होने से नाराज सस्ता गल्ला विक्रेताओं ने शनिवार को नंदादेवी मंदिर परिसर में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। उन्होंने भुगतान होने तक राशन की दुकानों के ताले न खोलने की चेतावनी दी।जिले में 21 दिन से राशन वितरण ठप होने से पांच लाख से अधिक उपभोक्ता परेशान हैं।

🔹मंडरा रहा आर्थिक संकट 

जिलाध्यक्ष संजय साह रिक्खू के नेतृत्व में एकत्र सस्ता गल्ला विक्रेता संगठन के सदस्यों ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि 13 माह से लंबित बिल का भुगतान न होने के कारण वे आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं। दुकान का किराया, बिजली का बिल, बीमा और बैंक की किश्त चुकाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। दशहरा और दिवाली का पर्व नजदीक है। आर्थिक संकट के चलते वे त्योहारी सीजन में खरीदारी नहीं कर पा रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :अल्मोड़ा में आठ सितम्बर से शुरू होगा नंदा देवी मेला,15 सितम्बर तक होगा मेले का आयोजन

🔹सस्ता गल्ला दुकानें बंद होने से उपभोक्ताओं को नहीं मिल रहा राशन सस्ता गल्ला विक्रेताओं की दुकानें बंद रहने से उपभोक्ताओं की दिक्कत बढ़ गई है। जिले की 976 दुकानों में बीते 21 दिन से ताले लगे हैं और पांच लाख से अधिक उपभोक्ताओं को सस्ता राशन नहीं मिला है। त्योहारी सीजन में राशन न मिलने से लोगों को खासी परेशानी झेलनी पड़ रही है। खासकर गरीब तबके के लोग खासे परेशान हैं और जल्द राशन की दुकानों के ताले खुलने का इंतजार कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  Uttrakhand News :कांग्रेस की 24 जुलाई से शुरू हो रही केदारनाथ धाम बचाओ पैदल यात्रा का पूर्व सीएम हरीश रावत ने किया समर्थन, यात्रा में होंगे शामिल

🔹विक्रेताओं पर दबाव बनाया जा रहा

कहा कि वे लंबे समय से भुगतान की गुहार लगा रहे हैं। इसके बावजूद समस्या नहीं सुलझाई जा रही। मजबूरन उन्हें राशन वितरण बंद करना पड़ा। अब खाद्यान्न बांटने के लिए सस्ता गल्ला विक्रेताओं पर दबाव बनाया जा रहा है, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस दौरान विक्रेताओं ने सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाए। कहा कि मांग पूरी होने तक राशन नहीं बांटा जाएगा लेकिन अगर किसी माह का राशन लैप्स किया गया तो वे आमरण अनशन करेंगे। वहां महामंत्री केसर खनी, मनोज वर्मा, दिनेश गोयल, विपिन तिवारी, देवेंद्र चौहान, प्रकाश भट्ट, बलवंत मेहता, चंदन मेहरा, प्रताप बिष्ट, सुरेश सांगा आदि रहे।