Almora News:डेंगू के डंक से परेशान हुआ शहर,बेस और जिला अस्पताल में बनाए गए स्पेशल वार्ड

ख़बर शेयर करें -

मौसम परिवर्तन के चलते मच्छर पनपने का सिलसिला शुरू होते ही डेंगू का खतरा भी बढ़ गया है। इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग की लोगों को डेंगू से सुरक्षित बचाने की तैयारी में जुट गया है।

🔹डेंगू की जांच की सुविधा उपलब्ध होगी

जिला, बेस और रानीखेत उप जिला चिकित्सालय में आईसोलेशन वार्ड स्थापित कर यहां मरीजों के लिए दो-दो बेड लगाए गए हैं। वहीं डेंगू की दृष्टि से संवेदनशील सोमेश्वर, भिकिसासैंण, चौखुटिया, द्वाराहाट, भैंसियाछाना में डेंगू की जांच की सुविधा उपलब्ध होगी। 

🔹स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड पर 

पर्वतीय क्षेत्रों में भी मच्छरों का प्रकोप बढ़ने लगा है। ऐसे में डेंगू का खतरा भी कम नहीं है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड पर आ गया है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक डेंगू से बचाव की तैयारी पूरी कर ली है। जिला, बेस और रानीखेत उप जिला चिकित्सालय में डेंगू मरीजों को आईसोलेट किया जाएगा, जहां दो-दो मरीजों को आईसोलेट करने की व्यवस्था होगी। इससे अधिक मरीज सामने आने पर बेड बढ़ाए जाएंगे। वहीं सोमेश्वर, भिकियासैंण, चौखुटिया, द्वाराहाट और भैंसियाछाना सीएचसी में डेंगू जांच होगी।ऐसा इसलिए कि विभाग ने इन क्षेत्रों को डेंगू की दृष्टि संवेदनशील श्रेणी में रखा है। अधिकारियों के मुताबिक यहां संदिग्धों की जांच होगी और पॉजिटिव निकलने के बाद उन्हें आईसोलेट करने के लिए बेस, जिला और रानीखेत उप जिला चिकित्सालय भेजा जाएगा। 

यह भी पढ़ें 👉  Almora News :राज्य मंत्री अजय टम्टा ने एम्स दिल्ली पहुंचकर बिन्सर वन्यजीव विहार में वनाग्नि की चपेट में आकर झुलसे चार वन कर्मियों का जाना हाल

🔹होल ब्लड चढ़ेगा, अलग से प्लेटलेट्स चढ़ाने की नहीं होगी सुविधा

डेंगू पॉजिटिव मरीजों को यदि प्लेटलेट्स की जरूरत होगी तो उन्हें इसकी पूर्ति के लिए होल ब्लड चढ़ेगा। ऐसा इसलिए कि जिले में किसी भी अस्पताल में ब्लड सेप्रेशन की व्यवस्था नहीं है। रक्त से प्लेटलेट्स अलग नहीं किए जा सकते। ऐसे में उनकी जान बचाने के लिए होल ब्लड चढ़ाना ही एकमात्र विकल्प विभाग के पास होगा।